Home /News /uttarakhand /

पेशावर कांड के महानायक चंद्र सिंह गढ़वाली के वंशजों के नाम वोटर लिस्ट से गायब

पेशावर कांड के महानायक चंद्र सिंह गढ़वाली के वंशजों के नाम वोटर लिस्ट से गायब

पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा.

पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा.

राजस्व विभाग के अधिकारियों ने गढ़वाली परिवार को यूपी का निवासी बताते हुए उनके नाम वोटर लिस्ट से कटवाए हैं. वहीं वोटर लिस्ट में नाम चढ़ाने के लिए दर-दर भटक रहे देशबंधु गढ़वाली का कहना है कि अगर वीर चंद्र सिंह गढ़वाली का उत्तराखंड से कोई मतलब नही है तो सरकार उनकी मूर्ति को यहां से हटाए और उनके नाम से चलाई जा रही योजनाओं का नाम भी बदल दे.

अधिक पढ़ें ...
    पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के वंशजों को प्रशासन ने नगर निगम चुनाव से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. पार्षद का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही वीर चंद्रसिंह गढ़वाली की पुत्रवधू समेत पूरे परिवार का नाम वोटर लिस्ट से काट दिया गया है. इसके चलते गढ़वाली के परिवार के चुनाव लड़ने पर रोक लग गई है.

    बता दें कि पेशावर कांड के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के वंशज पिछले कई दशकों से कोटद्वार-भाबर की हल्दूखाता ग्रामसभा के वोटर रहे हैं, लेकिन अब उनके नाम क्षेत्र की मतदाता सूची से हटा दिए गए हैं. अपना नाम वोटर लिस्ट में दर्ज कराने को लेकर गढ़वाली की पुत्रवधू और पोते पिछले एक हफ्ते से तहसील और अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन हर जगह उन्हें मायूसी हाथ लग रही है. वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के पोते देशबंधु गढ़वाली का कहना है कि पूर्व में हुए ग्राम पंचायत के चुनाव में उनके दोनों परिवारों के 12 लोगों के नाम वोटर लिस्ट में थे, लेकिन नगर निगम बनते ही उनके नाम हटा दिए गए.

    वहीं उन्होंने बताया कि परिवार के सभी सदस्यों के आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड सहित अन्य दस्तावेज उत्तराखंड के ही बने हुए हैं. वे पिछले लोकसभा, विधानसभा और पंचायत के चुनाव में भी मतदान कर चुके हैं. उन्होंने मामले की शिकायत एसडीएम से भी की. उन्हें बताया गया कि राजस्व विभाग के अधिकारियों ने गढ़वाली परिवार को यूपी का निवासी बताते हुए उनके नाम वोटर लिस्ट से कटवाए हैं. वहीं वोटर लिस्ट में नाम चढ़ाने के लिए दर-दर भटक रहे देशबंधु गढ़वाली का कहना है कि अगर वीर चंद्रसिंह गढ़वाली का उत्तराखंड से कोई मतलब नहींं है, तो सरकार उनकी मूर्ति को यहां से हटाए और उनके नाम से चलाई जा रही योजनाओं का नाम भी बदल दे.

    वीर चंद्र सिंह गढ़वाली के नाम पर राजनीति तो बहुत हुई, लेकिन उनके वंशजों की कोई सुध लेने को भी तैयार नहीं है. प्रदेश सरकार वीर चंद्र सिंह गढ़वाली को उत्तराखंड का गौरव मानती है, लेकिन उन्हीं के परिवार को हक नहीं मिल पा रहा है. यह आजादी की लड़ाई लड़ने वाले आंदोलनकारी के वंशजों का अपमान करना है. बता दें कि गढ़वाल राइफल के वीर चंद्र सिंह गढ़वाली ने पेशावर में जंगे आजादी की लड़ाई लड़ रहे पठानों पर अंग्रेजों के गोली चलाने के आदेश को नहीं माना था. इसके लिए अंग्रेजों ने उन्हें कालापानी की सजा दे दी थी.

    (कोटद्वार से अनुपम की रिपोर्ट)

    ये भी पढ़ें - निकाय चुनाव: आईटी सेल ने संभाली कमान, सोशल मीडिया पर जंग शुरू

    ये भी पढ़ें - दीपावली को लेकर वन विभाग सतर्क, उल्लूओं पर बढ़ाई गई चौकसी

    Tags: Uttarakhand news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर