लापता सिपाही को 22 दिन बाद भी नहीं ढूंढ पाई पुलिस
Pauri-Garhwal News in Hindi

लापता सिपाही को 22 दिन बाद भी नहीं ढूंढ पाई पुलिस
जिस पुलिस के भरोसे जिले में हजारों लोगों की सुरक्षा का जिम्मा है. वह पुलिस खुद कितनी असहाय है इस बात का पता इससे भी लगता है कि पुलिस करीब 22 दिनों से गायब चल रहे अपने ही जवान का सुराग तक नहीं लगा पाई है. बेबस परिजन लगातार दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन पुलिस अभी भी लकीर पीटने से आगे नहीं बढ़ पाई है.

जिस पुलिस के भरोसे जिले में हजारों लोगों की सुरक्षा का जिम्मा है. वह पुलिस खुद कितनी असहाय है इस बात का पता इससे भी लगता है कि पुलिस करीब 22 दिनों से गायब चल रहे अपने ही जवान का सुराग तक नहीं लगा पाई है. बेबस परिजन लगातार दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन पुलिस अभी भी लकीर पीटने से आगे नहीं बढ़ पाई है.

  • Share this:
जिस पुलिस के भरोसे जिले में हजारों लोगों की सुरक्षा का जिम्मा है. वह पुलिस खुद कितनी असहाय है इस बात का पता इससे भी लगता है कि पुलिस करीब 22 दिनों से गायब चल रहे अपने ही जवान का सुराग तक नहीं लगा पाई है. बेबस परिजन लगातार दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन पुलिस अभी भी लकीर पीटने से आगे नहीं बढ़ पाई है.

रिजर्व पुलिस लाइन चंबा से कांस्टेबल महेंद्र सैलानी सात अप्रैल को दवाई लेने अस्पताल गया और लापता हो गया. जब महेंद्र घर नहीं लौटा तब परिजनों ने चंबा और नई टिहरी में ढूंढ खोज शुरू की, लेकिन कुछ पता नहीं चला तब महेंद्र की बूढ़ी मां और पत्नी ने 10 अप्रैल को चंबा थाने गुमशुदगी दर्ज कराई.

हर दिन थाने के चक्कर काटने के बाद जब पुलिस महेंद्र का पता नहीं लगा पाई और आश्वाससन देती रही तब परिजनों ने एसपी से गुहार लगाई. परिवार में पांच लोगों का पेट भरने वाले महेंद्र को केदारनाथ में आई आपदा के दौरान बेहतर काम करने पर मेडल से पुरस्कृत भी किया गया था.



महेंद्र के तीन बच्चों में एक बेटी अपंग है, जिसका देहरादून से उपचार चल रहा है और हर पंद्रह दिनों बाद उसे उपचार के लिए दून ले जाना पड़ता है. घर के माली हालात पहले ही ठीक नहीं है और अब महेंद्र के लापता हो जाने के बाद से मानों उन पर दुखों का पहाड़ टूट गया है, जहां महेंद्र की 10 वर्षीय बेटी का अब उपचार नहीं हो पा रहा है, वहीं बूढ़ी मां और पत्नी पुलिस अधिकारियों के चक्कर काटकाट कर हिम्मत हार चुके हैं.
आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज