प्रशासन के दावे हुए हवा, सील करने के बाद भी लक्ष्मण झूला पुल पर आवाजाही जारी

पुल को बंद करने के ख़िलाफ़ लोगों और व्यापारियों के ज़बरदस्त प्रदर्शन के बाद भी राज्य सरकार ने इस मामले पर सख़्त रुख अपनाया था और पुल को बंद रखने का फ़ैसला किया था.

Ashish Dobhal | News18 Uttarakhand
Updated: July 16, 2019, 5:34 PM IST
प्रशासन के दावे हुए हवा, सील करने के बाद भी लक्ष्मण झूला पुल पर आवाजाही जारी
ख़तरनाक घोषित हो चुके और आवाजाही के लिए बंद कर दिए गए लक्ष्मण झूला पुल पर लोगों की आवाजाही अब भी जारी है.
Ashish Dobhal
Ashish Dobhal | News18 Uttarakhand
Updated: July 16, 2019, 5:34 PM IST
ख़तरनाक घोषित हो चुके और आवाजाही के लिए बंद कर दिए गए लक्ष्मण झूला पुल पर लोगों की आवाजाही अब भी जारी है. शासन के आदेशों की अवहेलना करके स्थानीय लोग और यात्री आराम से पुल से आ-जा रहे हैं. पुल को बंद करने के ख़िलाफ़ लोगों और व्यापारियों के ज़बरदस्त प्रदर्शन के बाद भी राज्य सरकार ने इस मामले पर सख़्त रुख अपनाया था और पुल को बंद रखने का फ़ैसला किया था. पुल से आवाजाही न हो सके इसके लिए सोमवार शाम को एक लोहे की चादर लगाकर पुल को सील कर दिया गया था लेकिन आज दोपहर को पता चला कि इसका भी कोई फ़ायदा नहीं हो रहा है.

नया पुल बनेगा 

सीएम ‌त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लक्ष्मण झूला बंद करने के फ़ैसले का समर्थन करते हुए कहा था कि दरअसल न्होंने बताया कि लक्ष्मण झूला काफी पुराना हो गया था और लोगों की सुरक्षा के चलते यह फैसला लिया गया है. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि सरकार इस पुल की जगह नया पुल बनाने जा रही है. जल्द ही इस नए पुल का निर्माण भी शुरू कर दिया जाएगा.

आम लोगों के लिए बंद हुआ ऋषिकेश का प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला, ये है वजह...

लक्ष्मण झूले के बंद किए जाने के बाद स्‍थानीय लोगों व व्यापारियों ने प्रशासन के खिलाफ शनिवार को प्रदर्शन किया था जिसके बाद पैदल यात्रियों के लिए इसे खोल दिया गया था. इससे पहले नगर पालिका मुनिकीरेती की बोर्ड बैठक में लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता मोहम्मद आरिफ खान ने लक्ष्मण झूला पुल को लेकर आपत्ति जताई थी. उन्होंने कहा था कि पिछले दिनों आईआईटी की टीम ने पुल का टेक्निकल सर्वे किया था और इसे आवाजाही के लिए उपयुक्त नहीं माना था.

लोहे की चादर से किया गया सील 

इसके बाद ऋषिकेश में प्रशासन ने सोमवार को लक्ष्मण झूला पर आवाजाही को स्थाई रुप से रोकने के लिए इस पर लोहे के एक चादर लगा थी. एसडीएम नरेंद्र नगर युक्ता मिश्रा की मौजूदगी में लोक निर्माण विभाग की ओर से लोहे की चादर लगाकर पुल को सील किया था.
Loading...

लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता श्याम लाल गोयल ने बताया था कि लोहे की चादर पर एक गेट भी दिया गया है. इसमें खतरे का निशान भी लगाया है. साथ ही एक चेतावनी बोर्ड भी लगाया गया है. ताकी कोई भी इस तरफ आए तो इस बोर्ड को पढ़कर वापस चला जाए.

लक्ष्मण झूला पुल बंद किए जाने के फैसले का विरोध, पुलिस ने खड़े किए सवाल

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें
First published: July 16, 2019, 3:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...