लाइव टीवी

एसडीआरएफ बनाएगी केदार के कैनवास को रंगीन

ETV UP/Uttarakhand
Updated: September 9, 2015, 10:31 AM IST
एसडीआरएफ बनाएगी केदार के कैनवास को रंगीन
केदारनाथ धाम में जून 2013 में आई प्राकृतिक आपदा को शायद ही कोई भूल पाया हो. आपदा के बाद से केदारनाथ धाम की नयी सूरत सँवारने की कोशिश जारी है. नेहरू पर्वतारोहण संस्थान द्वारा पिछले दो साल से केदार धाम में पुनर्निर्माण कार्य किये जा रहे हैं. वहीँ अब एसडीआरएफ यानी स्टेट डिजास्टर रेस्पोंस फ़ोर्स को भी केदार नाथ धाम के दुसरे चरण के निर्माण कार्यों में लगाया जा रहा है.

केदारनाथ धाम में जून 2013 में आई प्राकृतिक आपदा को शायद ही कोई भूल पाया हो. आपदा के बाद से केदारनाथ धाम की नयी सूरत सँवारने की कोशिश जारी है. नेहरू पर्वतारोहण संस्थान द्वारा पिछले दो साल से केदार धाम में पुनर्निर्माण कार्य किये जा रहे हैं. वहीँ अब एसडीआरएफ यानी स्टेट डिजास्टर रेस्पोंस फ़ोर्स को भी केदार नाथ धाम के दुसरे चरण के निर्माण कार्यों में लगाया जा रहा है.

  • Share this:
केदारनाथ धाम में जून 2013 में आई प्राकृतिक आपदा को शायद ही कोई भूल पाया हो. आपदा के बाद से केदारनाथ धाम की नयी सूरत सँवारने की कोशिश जारी है. नेहरू पर्वतारोहण संस्थान द्वारा पिछले दो साल से केदार धाम में पुनर्निर्माण कार्य किये जा रहे हैं. वहीँ अब एसडीआरएफ यानी स्टेट डिजास्टर रेस्पोंस फ़ोर्स को भी केदार नाथ धाम के दुसरे चरण के निर्माण कार्यों में लगाया जा रहा है.

केदार नाथ धाम में आज कल दुसरे चरण के निर्माण कार्य किये जा रहे हैं. जिन्में मंदिर के पीछे थ्री टीयर सुरक्षा दीवार बनाने से लेकर मंदाकनी और सरस्वती के किनारे घाट बनाने का काम प्रमुखता से किया जा रहा है. वहीँ मंदिर परिसर के पास पुरोहितों और प्रशासनिक लोगों के लिए आवासीय भवन भी बनाये जाने हैं. जिनको लेकर एनआईएम की टीमें दिन रात मेहनत करके अपने कार्य पूरे कर रही हैं

एनआईएम के प्रधानाचार्य कर्नल अजय कोठियाल ने बताया है की भविष्य में एनआईएम की टीमों को केदार नाथ से मूव करना होगा जिसके लिए राज्य सरकार की एजेंसियों को ट्रेंड किया जा रहा है. की वे भविष्य में केदार नाथ धाम में कार्य करने के लिए तैयार हो जाएँ उन्होंने बताया है की एसडीआरएफ की टीमों को एनआईएम की टीमों के साथ हाई एल्टीट्यूट पर कार्य करने के लिए तैयार किया जा रहा है. जिससे उन्हें किसी भी तरह की कोई दिक्कत पेश ना हो .
एसडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट नवनीत सिंह भुललर के मुताबिक़ एसडीआरएफ एक ट्रेंड फ़ोर्स है. जो हाई एल्टीट्यूट पर कार्य करने में सक्षम है. एसडीआरएफ ने एनआईएम के साथ बचाव एवं राहत के सभी कार्यों में भाग लिया है. गौरीकुंड से लेकर केदार नाथ के ट्रैक को बेहतर और सुगम बनाना एसडीआरएफ का मुख्य टास्क रहेगा.

इससे पहले मुख्यसचिव राकेश शर्मा ने केदारनाथ धाम में चल रहे दूर से चरण के निर्माण कार्यो का जायजा लिया. केदारधाम पहुंचकर उन्होंने मन्दिर परिसर और मार्ग में किये जा रहे निर्माण कार्यों पर अधिकारियों को निर्देश भी दिये. मुख्यसचिव के दौरे से केदार धाम के पण्डा समाज और तीर्थ पुरोहितों भी उत्साह नजर आया. वहीं मुख्यसचिव ने इस दौरान केदार धाम में कार्य कर रहे लोगों की जमकर तारीफ की.

मंगलवार को मुख्यसचिव राकेश शर्मा केदारनाथ धाम पहुंचे, इस दौरान उनके साथ आपदा सचिव मिनाक्षी सुन्दरम, जिलाधीकारी रुद्रप्रयाग और एमडी जीएमवीएन भी मौजूद रहे. मुख्यसचिव के केदारनाथ धाम पहुंचने पर निम के प्रधानाचार्य कर्नल अजय कोठियाल ने उनका स्वागत किया. इस दौरान कर्नल कोठियाल द्वारा मुख्यसचिव को केदार धाम में चल रहे दूसरे चरण के निर्माण कार्यों से अवगत कराया. वहीं मुख्यसचिव ने इस दौरान केदार धाम के निर्माणकार्यों को लेकर अधिकारियों को निर्देश भी दिये. मुख्यसचिव ने बताया कि जल्द ही मुख्यमन्त्री भी केदारधाम में आकर दुसरे चरण के कार्यों का जायजा लेने पहुंचेंगे.

मुख्यसचिव के दोरे को लेकर पुरोहित समाज में काफी उत्साह देखने को मिला. जिन्होंने केदारधाम में चल रहे विकास और निर्माण कार्यों के लिये मुख्यमन्त्री हरीश रावत और मुख्यसचिव का आभार जताया. पुरोहितों ने मु्ख्यसचिव से मिलकर केदारधाम में चल रहे कार्यों के लिये सुझाव भी दिये. वहीं केदार धाम में निर्माण कार्यों के लेकर निम के प्रधानाचार्य कर्नल अजय कोठियाल ने मुख्यसचिव को निर्माण कार्यों की जानकारी दी. कर्नल कोठियाल ने बताया कि वर्तमान में केदार नाथ धाम में सरस्वती और मन्दाकनी के किनारे घाट बनाने का कार्य किया जा रहा है. वहीं मन्दिर के ठीक पीछे थ्री टीयर प्रोटेक्शन दीवार भी बनाई जा रही है. जिससे भविष्य में केदार नाथ मंदिर को कोई क्षति ना हो पाये.केदा्र धाम में चल रहे दूसरे चरण के कार्यों को लेकर सरकार और शासन काफी संजीदा नजर आ रहा है. मुख्यसचिव के दौरे से केदारधाम में कार्य कर रहे लोगों में भी एक नया उत्साह देखने को मिला है. वहीं भक्तों के लिये भविष्य के केदार को लेकर भी तैयारियां जोरों से चल रही है. क्योंकि मानसून के बाद अब अगले डेढ महीने तक केदारधाम में भक्तों का तांता लगता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पौड़ी गढ़वाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2015, 10:31 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर