लाइव टीवी

17 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्तर पर 10 गोल्ड और 2 सिल्वर जीत चुकी है उत्तराखंड की यह उड़न परी

News18 Uttarakhand
Updated: October 14, 2019, 2:47 PM IST
17 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्तर पर 10 गोल्ड और 2 सिल्वर जीत चुकी है उत्तराखंड की यह उड़न परी
मात्र 17 साल की आयु में अंकिता राष्ट्रीय स्तर पर 10 गोल्ड और 2 सिल्वर पदक जीत चुकी हैं.

अंकिता ध्यानी (Ankita Dhyani) का दौड़ से प्यार 8 साल की उम्र में शुरु हुआ था. उस समय उनके इलाक़े में कोई ग्राउंड (Ground) नहीं था तो वह सड़क पर दौड़ लगाकर तैयारी किया करती थीं.

  • Share this:
कोटद्वार. अगर कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो कामयाबी मिल ही जाती है. पौड़ी (Pauri) के दूरदराज के इलाक़े में रहने वाली 18 साल की अंकिता ध्यानी (Ankita Dhyani) की कहानी यही बताती है. कोटद्वार (Kotdwar) से 70 किलोमीटर दूर जयहरीखाल ब्लॉक (Jaihari khal) के दूरस्थ इलाके मेरुड़ा (Meruda) की रहने वाली अंकिता आज देश भर में उत्तराखंड (Uttarakhand) का नाम रौशन कर रही है. मात्र 17 साल की आयु में अंकिता राष्ट्रीय स्तर पर 10 गोल्ड और 2 सिल्वर पदक जीत चुकी हैं. अभी वह खेलो इंडिया साई अकेडमी, भोपाल में ट्रेनिंग कर रही हैं और अगले मेडल के लिए तैयारी कर रही हैं.

सड़क पर दौड़कर करती थीं तैयारी 

18 साल की अंकिता ध्यानी आजकल छुट्टियों पर घर आई हैं. न्यूज़ 18 से बातचीत करते हुए अंकिता ने बताया कि दौड़ से उनका प्यार 8 साल की उम्र में शुरु हुआ था. उस समय उनके इलाक़े में कोई ग्राउंड नहीं था तो वह सड़क पर दौड़ लगाकर तैयारी किया करती थीं.

स्कूल स्तर पर जीत हासिल करते हुए अंकिता ने रुद्रप्रयाग के अगस्तमुनि में स्थित बालिका एथलेटिक्स हॉस्टल के लिए ट्रायल दिया और उसमें चुनी गईं. पहले साल ही ट्रेनिंग के बाद अंकिता नेशनल गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने में सफल रहीं.

athelete ankita dhyani kotdwar, अंकिता ध्यानी अभी छुट्टियों पर जयहरीखाल स्थित अपने घर आई हैं.
अंकिता ध्यानी अभी छुट्टियों पर जयहरीखाल स्थित अपने घर आई हैं.


16 साल की उम्र में अंकिता नेशनल जूनियर गेम्स में 1500 मीटर, 3000 मीटर और 5000 मीटर की दौड़ में राष्ट्रीय चैंपियन बन चुकी थीं. 2016-17 में अंकिता ने एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से तेलंगाना में आयोजित 3000 मीटर की दौड़ में गोल्ड जीता.

और जीतने हैं गोल्ड अभी
Loading...

हाल ही में अंकिता ने खेलो इंडिया प्रतियोगिता में अंडर 19 की 3000 मीटर की दौड़ में भी गोल्ड मेडल हासिल कर प्रदेश का नाम रौशन किया है. ये प्रतियोगिता जीतने के बाद भोपाल में खेलो इंडिया अकादमी के लिए अंकिता का चयन हुआ जहां वह अपनी प्रतिभा को और निखार रही हैं.

athelete ankita dhyani kotdwar, अंकिता कहती हैं कि पहाड़ों में प्रतिभाओं की कोई कोई कमी नहीं है ज़रूरत उन्हें निखारने और सही मार्गदर्शन देने की है.
अंकिता कहती हैं कि पहाड़ों में प्रतिभाओं की कोई कोई कमी नहीं है ज़रूरत उन्हें निखारने और सही मार्गदर्शन देने की है.


हाल ही में कुछ दिनों के लिए छुट्टियों में अपने घर आईं अंकिता ने कहा कि उनका अगला लक्ष्य अंडर 19 में जूनियर नेशनल चेम्पियनशिप में 1500 मीटर की दौड़ में गोल्ड लाना है. अंकिता यह भी कहती हैं कि पहाड़ों में प्रतिभाओं की कोई कोई कमी नहीं है ज़रूरत उन्हें निखारने और सही मार्गदर्शन देने की है.

ये भी देखें: 

साल भर बाद समझ आया सरकार को, कि बेकार है स्पोर्ट्स कोड... यहां जानिए कैबिनेट के महत्वपूर्ण फ़ैसले

2021 में उत्तराखंड में होगा सबसे बड़ा खेल आयोजन... 14 दिन में 8 शहरों में होंगे 34 इवेंट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पौड़ी गढ़वाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 2:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...