उत्तराखंड: Corona संक्रमित की मौत के बाद अंतिम संस्कार में बवाल, पुलिस से भिड़े ग्रामीण
Dehradun News in Hindi

उत्तराखंड: Corona संक्रमित की मौत के बाद अंतिम संस्कार में बवाल, पुलिस से भिड़े ग्रामीण
लोगों को शक था कि संस्कार से संक्रमण आस- पास के क्षेत्र और लोगों में फैल सकता है.

एसएसआई मोहर सिंह (SSI Mohar Singh) का कहना है कि क्षेत्र के शमशान घाट पर व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया जा रहा था, तभी आस-पास के लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड के देहरादून (Dehradun) स्थित रायपुर थाना क्षेत्र के नालापानी श्मशान घाट (Nalapani Cremation Ground) में उस समय बवाल हो गया जब स्वास्थ्य विभाग और पुलिस के जवान कोरोना संक्रमित व्यक्ति का अंतिम संस्कार करने पहुंचे. स्थानीय लोगों ने जमकर बवाल मचाया और श्मशान घाट में शव का अंतिम संसकार (Funeral) करने से मना कर दिया. आपको बता दें कि देर रात कोरोना वायरस संक्रमित मरीज की अस्पताल में मौत हुई थी, जिसके बाद रविवार को प्रशासन की देखरेख में सभी नियमों का पालन करते हुए संक्रमित शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा था. लेकिन, जैसे ही प्रशासन और पुलिस के लोग श्मशान घाट में शव लेकर पहुंचे तो स्थानीय लोगों के साथ स्थानीय पार्षद देविका ने विरोध करना शुरू कर दिया. मामला इतना बढ़ गया था कि मौके पर थाना रायपुर से पुलिस फ़ोर्स को बुलाना पड़ा. इस दौरान विरोध कर रहे लोगों की पुलिस के साथ नोकझोंक भी हुई.

अंतिम संस्कार पर लोगों का कहना था कि मौत कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से हुई है. इस वजह से अंतिम संस्कार का विरोध किया जा रहा था. स्थनीय पार्षद देविका का कहना है कि श्मशान घाट  आवादी वाले क्षेत्र में है और इसकी वजह से इलाके में भी कोरोना संक्रमन फैलने का डर बना रहता है. यही वजह है कि वो विरोध कर रही हैं. साथ ही पार्षद ने प्रशासन से अनुरोध भी किया कि आगे से किसी भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति का शव इस श्मशान घाट पर न जलाया जाय. इसके लिए कोई और स्थान देखा जाय.

काफी समझाने के बाद बनी बात
विरोध बढ़ते ही स्थानीय थाने से एसएसआई मनोहर सिंह रावत पुलिस फ़ोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और विरोध करते हुए तमाम लोगों के साथ बातचीत की. इसके बाद बड़ी मुश्किल से शव का दाह संस्कार किया गया. एसएसआई मोहर सिंह का कहना है कि क्षेत्र के शमशान घाट पर कोरोना संक्रमित शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा था. तभी आस-पास के लोगों ने अंतिम संस्कार का विरोध करना शुरू कर दिया. लोगों को शक था कि संस्कार से संक्रमण आस- पास के क्षेत्र और लोगों में फैल सकता है. अधिकारियों की माने तो सुरक्षा के सभी एतियात बरतने के साथ ही अंतिम संस्कार किया गया है. लोगों को समझा- बुझाकर घर वापस भेज दिया गया है.
ये भी पढ़ें- 



कल से खुलेंगे मॉल-मंदिर और बॉर्डर, यहां जानें आपको कितनी मिलेगी राहत

फिर बंद हो सकती है शाहीन बाग-कालिंदी कुंज रोड, Delhi Police को लिखा पत्र
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading