Lockdown बढ़ने से पिथौरागढ़ में फंसे 1500 नेपाली निराश, इस पहल से जगी आस
Pithoragarh News in Hindi

Lockdown बढ़ने से पिथौरागढ़ में फंसे 1500 नेपाली निराश, इस पहल से जगी आस
पिथौरागढ़ डिग्री कॉलेज राहत शिविर में रह रहे नेपाली नागरिक

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ बॉर्डर डिस्ट्रिक्ट (Pitrogarh) में 1500 से ज्यादा नेपाली नागरिक (Nepali Citizen) फंसे हुए हैं. नेपाल में लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 7 मई किए जाने से वतन वापसी को लेकर ये मायूस हो गए. अब धारचूला प्रशासन ने इनकी वापसी की कवायद शुरू की है, जिससे इनकी आस जगी है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पिथौरागढ़. उत्तराखंड के पिथौरागढ़ बॉर्डर डिस्ट्रिक्ट (Pitrogarh Border District) में लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से 1500 से ज्यादा नेपाली नागरिक (Nepali Citizen) फंसे हुए हैं. इन्हें उम्मीद थी कि नेपाल सरकार 28 अप्रैल को लॉकडाउन खुलने पर वे अपने मुल्क वापसी कर पाएंगे, लेकिन नेपाल सरकार ने लॉकडाउन की समय सीमा को एक बार फिर बढ़ा कर 7 मई कर दिया है. जाहिर सी बात है कि इससे उत्तराखंड में फंसे हजारों नेपाली नागरिकों को खासी निराशा हाथ लगी है. हालांकि भारतीय प्रशासन ने एनएचपीसी के साथ मिलकर पिथौरागढ़, बलुआकोट, जौलजीबी और धारचूला के राहत शिविरों में इनके रहने और खाने का इंतजाम किया है. बावजूद इसके अपनों से दूरी अब इनसे बर्दाश्त नही हो रही है.

पिथौरागढ़ डिग्री कॉलेज में इनके रहने की है व्यवस्था

डिग्री कॉलेज राहत शिविर में रह रहे नेपाली नागरिक गणेश बोरा कहते हैं कि उन्हें उम्मीद थी कि 28 अप्रैल को वो अपने मुल्क पहुँच जाएंगे, लेकिन लॉकडाउन बढ़ने से उनकी और साथियों की चिंता काफी बढ़ गई है. हम सभी बहुत हताशा में हैं. वहीं धन बहादुर का कहना है कि राहत शिविर में उन्हें खाना पीना तो मिल रहा है, लेकिन जो पैसे उन्होंने कमाए थे, वो खर्च हो गए हैं. ऐसे में यहां फंसे नेपाली नागरिक और नेपाल में रह रहे उनके परिजन बहुत परेशान हो उठे हैं. ये नेपाली नागरिक उत्तराखंड में जो भी कमाते हैं उसी से यहां उनका और नेपाल में रह रहे उनके परिवार का बसर हो पाता है.



नेपाल प्रशासन नागरिकों की वापसी की तैयारी में जुटा



वहीं दूसरी ओर इनके जल्द मुल्क वापसी की उम्मीद भी दिखने लगी है. धारचूला के एसडीएम अनिल कुमार शुक्ला ने बताया कि नेपाल के दार्चुला ज़िले के प्रमुख ने जल्द ही नेपाली नागरिकों को वापस लेने की बात कही है. बकौल एसडीएम धारचूला प्रशासन अपने नागरिकों की वापसी की तैयारियों में जुटा है. नेपाल प्रशासन ने एक पत्र में उन्हें इस बारे में आदेश दिया है और वह पत्र पिथौरागढ़ के डीएम को भेजा जा चुका है. यहां यह उल्लेखनीय है कि अपने देश वापस जाने के लिए करीब 14 नेपालियों ने काली नदी में छलांग लगा दी थी. वे स्वदेश लौटने में सफल भी रहे.

ये भी पढ़ें: बाबा केदार की उत्सव डोली आज पहुंचेगी केदारनाथ, 29 अप्रैल को खुलेंगे कपाट

Lockdown: उत्तराखंड में 62 हजार वाहन चालक परिवारों पर रोटी का संकट!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading