Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड चुनाव में ‘ऑलवेदर रोड’ 6 सीटों पर बड़ा मुद्दा, BJP की राह निकलेगी या पूरी होगी कांग्रेस की चाह?

उत्तराखंड चुनाव में ‘ऑलवेदर रोड’ 6 सीटों पर बड़ा मुद्दा, BJP की राह निकलेगी या पूरी होगी कांग्रेस की चाह?

उत्तराखंड में ऑलवेदर रोड चुनावी मुद्दा बनी.

उत्तराखंड में ऑलवेदर रोड चुनावी मुद्दा बनी.

'All Weather Road' in Uttarakhand Election: चुनाव की दहलीज़ पर खड़े उत्तराखंड में हर मुद्दे पर सियासी घमासान नज़र आ रहा है. 6 विधानसभा सीटों पर ‘ऑलवेदर रोड’ क्या गुल खिलाती है, ये तो वक्त बता देगा, लेकिन इतना ज़रूर है कि बीजेपी जहां विकास कार्यों को चुनाव में भुनाना चाहती है, वहीं कांग्रेस उसकी हवा निकालने का कोई भी मौका हाथ से जाने देना नहीं चाहती है. ऐसा ही कुछ संग्राम में कुमाऊं में 'ऑलवेदर रोड' को लेकर चल रहा है. जानिए दोनों पार्टियों के बीच दिलचस्प दावे और तकरार कैसी है.

अधिक पढ़ें ...

पिथौरागढ़. कुमाऊं में बनी ‘ऑलवेदर रोड‘ चुनावी सीज़न आने के साथ ही सियासत के केन्द्र में आती दिख रही है. भाजपा जहां इसे 6 सीटों पर गेम चेंजर के तौर पर देख रही है, वहीं कांग्रेस ‘ऑलवेदर रोड’ को बीजेपी सरकार के खिलाफ सियासी हथियार बना रही है. टनकपुर से पिथौरागढ़ के लिए बनी ऑलवेदर रोड पर सियासी घमासान शुरू हो गया है. बीजेपी का दावा है कि ‘ऑलवेदर रोड’ बनने से चम्पावत और पिथौरागढ़ की राह आसान हुई ही है, साथ ही इन दोनों जिलों में पर्यटन कारोबार भी परवान चढ़ेगा. लेकिन कांग्रेस इस रोड के निर्माण में घपले के आरोप तक लगा रही है.

करीब 150 किलोमीटर की इस रोड के बनने में 1200 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. इसे विकास के लिहाज से बड़ा अध्याय बताने वाली बीजेपी को यह चुनाव में जीत की सड़क दिख रही है. बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी का कहना है कि केन्द्र और राज्य यानी डबल इंजन की सरकार ने मिलकर प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया है. चाइना बॉर्डर तक बीजेपी सरकार ने रोड बनाई है, जिसका लाभ सबसे पहले उत्तराखंड के लोगों को मिलेगा. आपको याद दिला दें कि यह वही रोड है, जिसके निर्माण व चौड़ीकरण को लेकर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा मापदंडों के लिहाज़ से हरी झंडी दी थी.

कुमाऊं की 6 विधानसभा सीटों पर असर

चम्पावत और पिथौरागढ़ में 6 विधानसभा सीटें हैं और बीजेपी को भरोसा है कि इन सीटों पर ऑलवेदर रोड का लाभ पार्टी को मिलेगा, लेकिन कांग्रेस इसी मुद्दे को लेकर बीजेपी पर हमलावर है. कांग्रेस की मानें तो ऑलवेदर रोड बनने से लोगों को भारी दिक्कतें हुई हैं और हालात ये हैं कि 150 किलोमीटर की रोड पूरी तरह मलबे से पटी है. यही नहीं लगातार दरक रहे पहाड़ यात्रियों की ज़िंदगी खतरे में डाल रहे हैं.

कांग्रेस ने गिनाईं खामियां

कांग्रेस का मानना है कि ऑलवेदर रोड का फायदा मिलने के बजाय बीजेपी को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी. कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री (संगठन) एमडी जोशी का आरोप है कि ऑलवेदर रोड बनाने में नियमों को ताक पर रखा गया, जिसका नतीजा ये रहा कि रोड अधिकतर समय लैंडस्लाइड से बंद ही रहती है. जोशी का कहना है कि इस रोड पर यात्रा करने वाले लोग बीजेपी को चुनाव में सबक सिखाएंगे.

Tags: Assembly elections, Roads, Uttarakhand Assembly Election

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर