Home /News /uttarakhand /

बीआरओ के सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट

बीआरओ के सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट

पिथौरागढ़ नेशनल हाइवे 9 पर सालों से काम कर रहे सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. यह हाइवे पहले बार्डर रोड आर्गिनाइजेशन के पास था, लेकिन खराब कार्यप्रणाली के चलते इसे अब नेशनल हाइवे ऑथिरिटी को सौंप दिया गया है.

पिथौरागढ़ नेशनल हाइवे 9 पर सालों से काम कर रहे सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. यह हाइवे पहले बार्डर रोड आर्गिनाइजेशन के पास था, लेकिन खराब कार्यप्रणाली के चलते इसे अब नेशनल हाइवे ऑथिरिटी को सौंप दिया गया है.

पिथौरागढ़ नेशनल हाइवे 9 पर सालों से काम कर रहे सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. यह हाइवे पहले बार्डर रोड आर्गिनाइजेशन के पास था, लेकिन खराब कार्यप्रणाली के चलते इसे अब नेशनल हाइवे ऑथिरिटी को सौंप दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...
पिथौरागढ़ नेशनल हाइवे 9 पर सालों से काम कर रहे सैकड़ों मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. यह हाइवे पहले बार्डर रोड आर्गिनाइजेशन के पास था, लेकिन खराब कार्यप्रणाली के चलते इसे अब नेशनल हाइवे ऑथिरिटी को सौंप दिया गया है.

हाइवे को भले ही दूसरी ऐजेंसी को हस्तांतरित कर दिया गया हो. लेकिन, सैकड़ों मजदूरों को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं हो सका है.

मजदूर जोगा राम का कहना है कि जब से हाइवे हस्तातंरित होने की सूचना आई है. बीआरओ ने उन्हें काम नहीं दिया है. जिस कारण उनके पास पिछले तीन माह से काम नहीं है.

काम नहीं होने से इन मजदूरों के सामने रोजी-रोटी का संकट गहरा गया है. इन मजदूरों में कुछ ऐसे भी हैं, जिन्हें बीआरओ के साथ काम करते हुए तीन दशक से ज्यादा का समय हो गया है.

पिथौरागढ़ के डीएम सुशील कुमार शर्मा का कहना है कि इस बारे में उनके द्वारा एनएचआई को निर्देशित किया गया है कि सभी बीआरओ के पूर्व मजदूरों को एनएच में काम दिया जाए.

साथ एसडीएम ने कहा कि सभी मजदूरों को हर कीमत पर पूर्व की तरह काम देने की कोशिशें की जा रही हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर