Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड संकट पर वेट एंड वॉच की नीति अपना रही है बसपा

उत्तराखंड संकट पर वेट एंड वॉच की नीति अपना रही है बसपा

2012 के विधान सभा में बसपा के तीन विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे थे मगर एक विधायक सुरेन्द्र राकेश की बीमारी के चलते उनकी मौत हो गई.

2012 के विधान सभा में बसपा के तीन विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे थे मगर एक विधायक सुरेन्द्र राकेश की बीमारी के चलते उनकी मौत हो गई.

2012 के विधान सभा में बसपा के तीन विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे थे मगर एक विधायक सुरेन्द्र राकेश की बीमारी के चलते उनकी मौत हो गई.

    18 मार्च से प्रदेश की सियासत में घमासान मचा है. सत्ताधारी कांग्रेस और बीजेपी के बीच वॉक युद्ध जारी है.

    जहां कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियां अपने-अपने विधायकों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही है. वहीं प्रदेश में तीसरा राजनीतिक ताकत रखने वाली बसपा को ऐसा लगता है कि प्रदेश की सियासत में कोई हलचल ही नहीं है क्योंकि हरिद्वार के मंगलौर से बसपा विधायक सरवत करीम अंसारी अपने क्षेत्रों का दौरा कर रहे है.

    उनका कहना है कि बसपा एक राष्ट्रीय पार्टी है प्रदेश में जो राजनीतिक हालात है उसमें पार्टी सुप्रीमो मायावती जो आदेश करेंगी उसका पालन किया जाएगा.

    2012 के विधान सभा में बसपा के तीन विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे थे मगर एक विधायक सुरेन्द्र राकेश की बीमारी के चलते उनकी मौत हो गई. अब हरिदास और सरवत करीम अंसारी ही पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

    मगर हरिदास को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते ही निष्कासित किया जा चुका है. इस स्थिति में बसपा का क्या स्टैण्ड होगा इसको लेकर भी तरह-तरह की चर्चाएं चल रही है. मगर बसपा अभी कांग्रेस पार्टी को समर्थन कर रही है. लेकिन प्रदेश के जो राजनीतिक हालात है.

    उसमें एक -एक विधायक की काफी अहमियत है, क्योंकि बीजेपी जहां 35 विधायकों की राज्यपाल के सामने परेड करा चुकी है. वहीं अब सदन में सरकार को 28 मार्च को बहुमत सिद्ध करना है ऐसे में बसपा पर नज़रें टिकना लाजिमी है .

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर