होम /न्यूज /उत्तराखंड /पिथौरागढ़ में इस जगह साक्षात विराजमान हैं मां चंडिका, न्याय की गुहार लगाने मंदिर आते हैं श्रद्धालु

पिथौरागढ़ में इस जगह साक्षात विराजमान हैं मां चंडिका, न्याय की गुहार लगाने मंदिर आते हैं श्रद्धालु

Pithoragarh Temple: चंडिका घाट मंदिर पिथौरागढ़ मुख्यालय से 55 किलोमीटर की दूरी पर है. यहां अपने वाहनों से भी लोग अब मंदि ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : हिमांशु जोशी

पिथौरागढ़. उत्तराखंड राज्य को देवी-देवताओं की भूमि कहा जाता है. यहां की ऊंची-ऊंची पर्वत शृंखलाओं में देवी-देवताओं का वास आदिकाल से माना जाता है. पिथौरागढ़ जिले के उत्तर में स्थापित है मां चंडिका घाट मंदिर. चंडिका देवी को मां दुर्गा का ही रूप माना जाता है. मार्कण्डेय पुराण के दुर्गा माहात्म्य में इनके कृत्यों एवं स्वरूप का विशद रूप से वर्णन किया गया है.

चंडिका घाट मंदिर पिथौरागढ़ मुख्यालय से 55 किलोमीटर की दूरी पर है. यहां अपने वाहनों से भी लोग अब मंदिर तक पहुंच सकते हैं. चंडिका मंदिर के पुजारी चंद्र सिंह बिष्ट बताते हैं कि इस मंदिर की पूजा उनका परिवार यहां 8 पीढ़ियों से करा रहा है. उन्होंने मां चंडिका को न्याय की देवी बताया. मंदिर आईं श्रद्धालु सावित्री जोशी ने कहा कि वह मां चंडिका के आदेश से ही यहां आई हैं. मां की महिमा अपरम्पार है. दूरदराज से भक्त मनोकामना लेकर देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं. उन्होंने बताया कि मां चंडिका अपने भक्तों को न्याय का आशीर्वाद देती हैं.

चंडिका घाट मंदिर के बारे में मान्यता है कि पूर्व समय में इस स्थान पर कई गांव के लोग अपने मवेशी ले जाकर पालते थे. इस इलाके में धान, तंबाकू, मक्का, बाजरा आदि की खेती हुआ करती थी. 400 साल पहले मां चंडिका का मंदिर बुंगाछीना के हरदेव में बताया जाता है, जिससे कुछ ही दूरी पर मां महानंदा देवी जी का मंदिर है.

लोककथा के अनुसार, मां चंडिका की मांसाहार प्रवृत्ति से मां नंदा ने उन्हें यह स्थान छोड़ने का आदेश दिया था. चंडिका उस स्थान को छोड़कर नदी में बहकर रामगंगा पहुंचीं, जहां आज चंडिका घाट मंदिर है. वहां रह रहे गांववालों ने चंडिका की मूर्ति को नदी से निकालकर एक साफ-सुथरे स्थान पर रखा. तभी से वह मूर्ति उस स्थान से हिली नहीं और गांववालों के सपने में देवी चंडिका ने इसी स्थान में रहने की बात कही. तब से मां चंडिका यहां विराजमान हैं. यहां पहुंचे श्रद्धालु मंदिर के दर्शन कर खुद को धन्य मानते हैं. मंदिर आने वाले श्रद्धालु किसी भी समय मां के दर्शन कर सकते हैं.

Tags: Pithoragarh news, Religious Places, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें