ईस्ट नंदा देवी की चोटी पर चढ़े 5 विदेशी पर्वतारोहियों की मौत, 3 का कोई सुराग नहीं

नंदादेवी में लगातार आ रहे एवलांच को देखते हुए फिलहाल अन्य पर्वतारोही दलों को रोक दिया गया है.

Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: June 3, 2019, 10:41 PM IST
ईस्ट नंदा देवी की चोटी पर चढ़े 5 विदेशी पर्वतारोहियों की मौत, 3 का कोई सुराग नहीं
सर्च ऑपरेशन में इस्तेमाल किया जा रहा नंदा देवी पीक का नक्शा.
Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: June 3, 2019, 10:41 PM IST
पिथौरागढ़ की ईस्ट नंदा देवी की चोटी (पीक) पर चढ़े 8 विदेशी पर्वतारोहियों में से 5 की मौत होने के पुष्टि भारतीय वायुसेना ने कर दी है. पहले सर्च टीम को 5 शवों के फ़ोटोग्राफ़िक एविडेंस मिले थे. 24 मई से लापता हुए इन विदेशी पर्वतारोहियों में 3 का अब भी कोई सुराग नहीं मिला. कई रहस्यों को खुद में समेटे नंदादेवी में ऐसा कम ही बार हुआ है कि यहां लापता हुए पर्वतारोहियों का कभी भी कोई सुराग मिला हो.

पर्वतारोहियों की तलाश... सर्च ऑपरेशन में एयरफ़ोर्स पायलट के साथ 2 ब्रिटिश पर्वतारोही भी शामिल

इंडियन एयर फोर्स ने ट्वीट करते हुए पांच पर्वतारोहियों की मौत की पुष्ट की. इंडियन एयर फोर्स ने कहा कि सर्च ऑपरेशन के दौरान पांच शव मिले हैं. बता दें, नंदा देवी शिखर भारत की दूसरी ऐसी चोटी है, जिस पर चढ़ना सबसे अधिक खतरनाक है. बीते माह 13 मई को दुनिया के जाने-माने पर्वतारोही मार्टिन मोरन की अगुवाई में ब्रिटेन, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के 8 लोगों का एक दल चोटी को फतह करने निकला था. लेकिन विश्वविख्यात ये पर्वतारोही नंदादेवी के रहस्यमयी संसार में कहीं खो गए.

एवलॉन्च की चपेट में आए 
Loading...

पिथौरागढ़ के ज़िलाधिकारी विजय कुमार जोगदंडे के अनुसार, 2 दिन तक चले सर्च ऑपरेशन के बाद 5 पर्वतारोहियों के शवों के फोटोग्राफ़िक एविडेंस मिले हैं. एयरफोर्स की सर्च टीम काफी कोशिशों के बाद ये एविडेंस जुटा पाई.

PHOTOS: बेस कैंप में फंसे 4 पर्वतारोहियों को लाया गया पिथौरागढ़, 8 अभी भी लापता

विदेशी पर्वतारोहियों के इस दल का संपर्क साढ़े पांच हज़ार मीटर चढ़ाई चढ़ने के बाद कट गया था. बताया जा रहा है कि माहिर पर्वतारोही इस ऊंचाई पर किसी बड़े एवलॉन्च की चपेट में आ गए थे. 2017 में भी नंदादेवी पर गए सेना के 7 पर्वतारोहियों का अभी तक कुछ पता नहीं चला है.

'हादसे इंसानी ग़लतियों से ही'

मार्टिन मोरन के परिवार की ओर से जारी फेसबुक मैसेज में बताया है कि पर्वतारोहियों का यह दल अननेम्ड पीक पर चढ़ने की कोशिशों में था. अनुभवी पर्वतारोही पुरमल धर्मसत्तु कहते हैं कि पर्वतारोहियों के साथ अक्सर जो भी हादसे होते हैं, वह इंसानी ग़लती से ही होते हैं. या तो टीम लीडर ग़लत फ़ैसले लेता है या फिर ओवर कॉन्फ़िडेंस में पर्वतारोहण के नियमों को अनदेखा किया जाता है.

पर्वतारोही लापताः पिथौरागढ़ से दो सर्च टीमें रवाना, चमोली-रुद्रप्रयाग से मांगी गई मदद

वैज्ञानिक ने कहा- येति सिर्फ़ काल्पनिक प्राणी, पर्वतारोही ने कहा- अच्छा है अब तक नहीं मिला

5 पर्वतारोहियों के मौत की लगभग पुष्टि होने के बाद अब प्रशासन के सामने 3 लापता पर्वतारोहियों को ढूंढने चुनौती तो है ही, इन शवों को निकाल पाना भी खासा मुश्किल काम है. नंदादेवी में लगातार आ रहे एवलॉन्च को देखते हुए फिलहाल अन्य पर्वतारोही दलों को रोक दिया गया है.

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पिथौरागढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 3, 2019, 6:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...