Home /News /uttarakhand /

पिथौरागढ़ में फिर गहराया रसोई गैस का संकट, सिलेंडर के लिए लग रही लंबी कतार

पिथौरागढ़ में फिर गहराया रसोई गैस का संकट, सिलेंडर के लिए लग रही लंबी कतार

गैस

गैस सिलेंडर लेने के लिए लाइन में लगे लोग.

पिथौरागढ़ में गैस एजेंसियों को आपूर्ति के सापेक्ष कम सिलेंडर मिल रहे थे, लिहाजा शहर में रसोई गैस की किल्लत शुरू हो गई.

    उत्तराखंड के सीमांत जनपद पिथौरागढ़ में रसोई गैस का संकट बढ़ता ही जा रहा है. शहर के लोगों को कड़ाके की ठंड में सुबह से गैस सिलेंडर के लिए लाइन में खड़ा होकर घंटों इंतजार करना पड़ रहा है. महिलाएं घर के सारे कामकाज छोड़कर सिलेंडर के लिए लाइन में लगने को मजबूर हैं. युवक और महिलाएं दूरदराज से गैस सिलेंडर सिर पर ढोकर ला रहे हैं और कई बार सिलेंडर न मिल पाने से लोग लंबा इंतजार करने के बावजूद निराश होकर वापस लौट रहे हैं.

    दरअसल पिथौरागढ़ के लिए काशीपुर में बने प्लांट से गैस सिलेंडरों की आपूर्ति होती है. कुमाऊं क्षेत्र में सिलेंडरों की आपूर्ति करने के बजाय सिलेंडर गढ़वाल भेजे जा रहे थे, जिससे पिथौरागढ़ में गैस एजेंसियों को आपूर्ति के सापेक्ष कम सिलेंडर मिल रहे थे, लिहाजा शहर में रसोई गैस की किल्लत शुरू हो गई.

    गैस सिलेंडर की आपूर्ति डगमगाने का दूसरा सबसे बड़ा कारण डीजल के बड़े दाम भी हैं. ट्रांसपोर्टरों को पुरानी दर पर तय किए गए भाड़े में डीजल की बढ़ी हुई कीमतों के साथ गैस पहुंचानी पड़ रही है. उन्होंने मजबूरन हल्द्वानी में गैस के वाहन खड़े कर दिए हैं. वे भाड़े में बढ़ोतरी की मांग कर रहे हैं.

    पिथौरागढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों की बात करें तो वहां स्थिति और भी खराब है. उन क्षेत्रों में रसोई गैस मिलना मुश्किल हो गया है, जिससे गैस सिलेंडर रिफिल कराने को लोग सिलेंडर के साथ जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं.

    गौरतलब है कि पिथौरागढ़ शहर में हर रोज 800 सिलेंडरों की खपत होती है, लेकिन पर्याप्त सिलेंडरों की आपूर्ति न हो पाने से गैस एजेंसियों को वर्तमान में 400 सिलेंडर ही मिल पा रहे हैं, जिससे नगर की जनता में सिलेंडर न मिलने से गहरा आक्रोश है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर