होम /न्यूज /उत्तराखंड /पिथौरागढ़ में जल्द लगेंगी डायलिसिस 7 मशीनें, मरीजों को नहीं लगानी होगी दूसरे शहरों की दौड़

पिथौरागढ़ में जल्द लगेंगी डायलिसिस 7 मशीनें, मरीजों को नहीं लगानी होगी दूसरे शहरों की दौड़

Health Service in Pithoragarh: पिथौरागढ़ जिले में अभी 50 से ज्यादा लोगों को डायलिसिस की जरूरत है और हफ्ते में दो बार डाय ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : हिमांशु जोशी

पिथौरागढ़. उत्तराखंड स्थित पिथौरागढ़ के जिला अस्पताल में गंभीर रोगों का इलाज अभी तक संभव नहीं हो पाया है. हाल यह है कि यहां से सीरियस कंडीशन के मरीज अन्य शहरों के अस्पताल में रेफर किए जा रहे हैं. बात किडनी पेशेंटों को मिल रही सहूलियत की करें तो पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में डायलिसिस कराने वालों की संख्या काफी अधिक है और संसाधन काफी कम. जिला अस्पताल में मात्र तीन डायलिसिस मशीनें हैं और एक दिन में सिर्फ 6 रोगियों को ही डायलिसिस सेवा मिल पाती है, जिससे अन्य लोगों को करीब 250 किलोमीटर दूर हल्द्वानी की दौड़ लगानी पड़ती है.

पिथौरागढ़ जिले में अभी 50 से ज्यादा लोगों को डायलिसिस की जरूरत है और हफ्ते में दो बार डायलिसिस कराना किडनी पेशेंटों की मजबूरी है. लेकिन जिला अस्पताल में डायलिसिस के सीमित संसाधनों के कारण मरीज और अस्पताल प्रबंधन मजबूर है. इस बीच राहत की खबर यह है कि जिले को 7 नई डायलिसिस की मशीनें हंस फाउंडेशन द्वारा दी जाएंगी, जिससे यहां रोगियों को काफी राहत मिलेगी.

जिला अस्पताल के फिजिशियन डॉ एसएस कुंवर ने यह जानकारी देते हुए बताया कि जिले में अभी तक तीन मशीनों से ही डायलिसिस होती है, जिस कारण अन्य लोगों को दूसरे जिले की दौड़ लगानी पड़ती है. डायलिसिस की सेवा बढ़ाने के लिए अस्पताल प्रबंधन लंबे समय से प्रयासरत है, जिससे अब जिले को 7 नई डायलिसिस की मशीनें मिलने वाली हैं, जो बेस अस्पताल में लगाई जाएंगी. इससे रोजाना 20 से ज्यादा मरीजों को इसका फायदा मिलेगा.

पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में डायलिसिस कराने आए मरीजों के परिजनों से जब हमने बात की, तो उन्होंने बताया कि लंबे इंतजार के बाद किस्मत से ही उनका नम्बर यहां पर आता है. नम्बर न आने की स्थिति में उन्हें अन्य जिलों की ओर रुख करना पड़ता है, जो बेहद खर्चीला होता है. नम्बर ना आने की वजह डायलिसिस यूनिट में काम कर रहे स्टाफ से पूछी गई, तो उन्होंने बताया कि एक दिन में 6 लोगों का डायलिसिस ही मुमकिन है और जिले में 50 से अधिक लोगों को हर रोज डायलिसिस की जरूरत पड़ती है. वर्तमान में भी जो मशीनें जिला अस्पताल में लगी हैं, वह भी हंस फाउंडेशन द्वारा दी गई हैं. अब 7 और मशीनें जिले को मिलने से निश्चित ही यहां डायलिसिस कराने वाले रोगियों को राहत मिलेगी.

Tags: Kidney disease, Pithoragarh news, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें