उत्तराखंड: चुपकोट बैंड के पास लैंडस्लाइड, चाइना-नेपाल बॉर्डर को जोड़ऩे वाला हाइवे बंद, सैकड़ों वाहन फंसे

चुपकोट बैंड के पास भारी लैंडस्लाइड चाइना- नेपाल हाइवे बंद, आवागमन ठप.

चुपकोट बैंड के पास भारी लैंडस्लाइड के कारण फिर बॉर्डर का हाइवे बंद हो गया. हाइवे बंद होने से पिथौरागढ़ जिले का शेष दुनिया से संपर्क पूरी तरह कट गया है. इस दौरान सबसे ज्यादा मुश्किल कोरोना के गंभीर संक्रमित मरीजों को उठानी पड़ रही है.

  • Share this:
पिथौरागढ़. चाइना (China) और नेपाल बॉर्डर ( Nepal Border) को जोडऩे वाला इकलौता हाइवे चुपकोट बैंड ( Chupkot Band) के पास भारी लैंडस्लाइड के कारण लगातार दूसरे दिन बंद हो गया है. हाइवे बंद होने से जहां दोनों ओर सैकड़ों वाहन फंसे हैं, वहीं कोरोना के गंभीर मरीजों को हायर सेंटर रेफर करना भी मुश्किल हो गया है.

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बीते दो दिनों में भारी बारिश हुई थी, जिसके चलते ये अहम हाइवे बीते रोज भी बंद था, शुक्रवार सुबह जैसे तैसे हाइवे खुला तो यात्रियों को राहत मिली, लेकिन शाम होते ही चुपकोट बैंड के पास भारी लैंडस्लाइड के कारण फिर बॉर्डर का हाइवे बंद हो गया. हाइवे बंद होने से पिथौरागढ़ जिले का शेष दुनिया से संपर्क पूरी तरह कट गया है. इस दौरान सबसे ज्यादा मुश्किल कोरोना के गंभीर संक्रमित मरीजों को उठानी पड़ रही है. इसी हाइवे से कोरोना के गंभीर मरीजों को हल्द्वानी हायर सेंटर रेफर किया जाता है. असल में टनकपुर से पिथौरागढ़ तक के बॉर्डर हाइवे को आलवेदर रोड में तब्दील किया गया है. साथ ही ये दावा भी एनएचएआई की तरफ से किया जा रहा था कि मौसम भले ही कैसा भी हो लेकिन हाइवे हर वक्त खुला रहेगा.

यहां मानसून की बरसात से पहले हुई बारिश ने अथॉरिटी के दावों की पोल खोल दी है. बीते एक साल में सामरिक महत्व का ये हाइवे 70 दिन से अधिक बंद हो चुका है. हाइवे में जगत महर के परिजन शाम से फंसे हैं, जंगलों के बीच से गुजरने वाले हाइवे में जगत महर की तरह सैकड़ों लोगों के परिजन फंसे हैं. जगत महर कहते हैं कि आलवेदर रोड बॉर्डर जिले के वरदान होने का दावा किया जा रहा था, लेकिन ये यहां के लोगों के लिए अभिशाप हो गई है. जिला प्रशासन के स्तर पर हाइवे खोलने को गंभीर प्रयास नहीं दिखते हैं. हाइवे के ठेकेदार प्रकाश जोशी कहते हैं कि भारी मात्रा में चुपकोट बैंड में मालवा आया है, जिसे देखकर लगता है कि 24 घंटे से पहले शायद ही ये खुल पाए.