होम /न्यूज /उत्तराखंड /पिथौरागढ़ की जनता से फिर धोखा! नहीं शुरू हुई विमान सेवा, UKD नेताओं ने उड़ाया 'कागज का प्लेन'

पिथौरागढ़ की जनता से फिर धोखा! नहीं शुरू हुई विमान सेवा, UKD नेताओं ने उड़ाया 'कागज का प्लेन'

Naini Saini Airport Pithoragarh: उत्तराखंड सरकार ने 31 जनवरी से पिथौरागढ़ के नैनी सैनी हवाई अड्डे से दिल्ली और देहरादून ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: हिमांशु जोशी

पिथौरागढ़. उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के लोगों के साथ एक बार फिर से हवाई सेवा के नाम पर मजाक किया गया है. इसके बाद लोगों ने सरकार पर पिथौरागढ़ की जनता को धोखे में रखने का आरोप लगाया है. बता दें कि नैनी सैनी एयरपोर्ट (Naini Saini Airport Pithoragarh) से नियमित उड़ान की घोषणा खुद सूबे के मुख्यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी कर चुके हैं, लेकिन उसके बाद भी नैनीसैनी से हवाई जहाज नहीं उड़ पाया.

दरअसल उत्तराखंड सरकार ने 31 जनवरी से पिथौरागढ़ के नैनी सैनी हवाई अड्डे से दिल्ली और देहरादून के लिए नियमित विमान सेवा शुरू करने की घोषणा की थी, लेकिन डीजीसीए से लाइसेंस नहीं मिलने के चलते तय समय पर विमान सेवा शुरू नहीं हो पाई. इसके बाद पिथौरागढ़ के स्थानीय लोग निराश हैं. वहीं, उत्तराखंड क्रांति दल के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने नैनी सैनी हवाई अड्डे पर पहुंच कर कागज के जहाज उड़ाकर विरोध प्रदर्शन किया और सरकार पर जनता के साथ छलावा करने का आरोप लगाया. वहीं, स्थानीय यूकेडी नेताओं ने कहा कि सरकार इस हवाई अड्डे से असली जहाज तो उड़ा नहीं पाई, जिसके चलते हुए वे कागज के जहाज उड़ाने को मजबूर हैं.

उत्तराखंड क्रान्ति दल ने दी ये धमकी
उत्तराखंड क्रान्ति दल के यूकेडी के जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर पुनेड़ा का कहना है कि सरकार ने 90 के दशक में करोड़ों रुपया खर्च कर पिथौरागढ़ जैसे सीमांत क्षेत्र के लोगों को एयर कनेक्टिविटी से जोड़ने के मकसद से यहां एयरपोर्ट बनाने की कवायद शुरू की थी. राज्य में कांग्रेस और भाजपा बारी बारी से सरकार में रही, लेकिन दोनों ही पार्टी की सरकारों ने यहां की जनता को बरगलाने का काम किया. सरकारों द्वारा कई बार पिथौरागढ़ से हवाई सेवा शुरू करने की घोषणा, तो की गई लेकिन यह हवाई सेवा अब तक नियमित रूप से शुरू नहीं हो पाई है, जिसका खामियाजा सीमांत जनपद के निवासियों को उठाना पड़ रहा है.

इसके साथ चंद्रशेखर पुनेड़ा का कहना है कि उन्होंने सरकार को चेतावनी के मकसद से आज कागज के जहाज उड़ाकर विरोध जताया है, लेकिन अगर सरकार ऐसे ही यहां की जनता को धोखा देती रही तो वह और उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे.

Tags: Pithoragarh news, Uttarakhand Government, Uttarakhand news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें