चीन के चाल में फंसे नेपाल ने भारत पर निगाह रखने के लिए पंचेश्वर में बनाई नई बॉर्डर आउट पोस्ट
Pithoragarh News in Hindi

चीन के चाल में फंसे नेपाल ने भारत पर निगाह रखने के लिए पंचेश्वर में बनाई नई बॉर्डर आउट पोस्ट
भारत ने कई साल की मेहनत के बाद लिपुलेख दर्रे तक नया सड़क मार्ग तैयार किया है, जिस पर नेपाल ने आपत्ति जताई है

नेपाल (Nepal) ने पंचेश्वर से सटे रोलघाट में सशस्त्र सीमा प्रहरी बल की एक नई चेक पोस्ट बनाई है. इस बॉर्डर आउट पोस्ट (BOP) में एक इंस्पेक्टर सहित कुल 35 जवान हर वक्त तैनात रहेंगे. रोलघाट बीओपी की मदद से नेपाली जवान उत्तराखंड के पिथौरागढ़ और चंपावत दोनों जिलों के बॉर्डर पर निगरानी कर सकते हैं

  • Share this:
पिथौरागढ़. लिपुलेख सड़क (Lipulekh Road) के उद्घाटन के बाद नेपाल भारत (India-Nepal) पर सीमाओं पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाते हुए लगातार उस पर निशाना साध रहा है. नेपाल का मानना है कि भारत ने चीन सीमा (India-China Border) को जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क गुंजी से ऊपरी इलाके में उसकी जमीन पर बनाई है. इसके बाद दोनों देशों के बीच सीमा विवाद (Border Tension) लगातार बढ़ता जा रहा है. ताजा हालात यह है कि नेपाल ने उत्तराखंड (Uttarakhand) के पिथौरागढ़ के लिपुलेख, लिम्पियाधूरा और कालापानी को अपने नए राजनीतिक नक्शे में शामिल कर लिया है. बदले हालात में नेपाल ने अब भारत से सटे खुले बॉर्डर पर अपना सुरक्षा तंत्र मजबूत करने की कोशिशें तेज कर दी हैं.

नेपाल ने पंचेश्वर से सटे रोलघाट में सशस्त्र सीमा प्रहरी बल की एक नई चेक पोस्ट बनाई है. इस बीओपी (बॉर्डर आउट पोस्ट) में एक इंस्पेक्टर सहित कुल 35 जवान हर वक्त तैनात रहेंगे. रोलघाट बीओपी की मदद से नेपाली जवान भारत के उत्तराखंड के पिथौरागढ़ और चंपावत दोनों जिलों के बॉर्डर पर निगरानी कर सकते हैं. रोलघाट की बीओपी का उद्घाटन सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के महानिरीक्षक हरिशंकर बूढ़ाथोकी ने किया है. हालांकि उद्घाटन के मौके पर बल के महानिरीक्षक ने बीओपी का उद्देश्य पंचेश्वर में प्रस्तावित दोनों मुल्कों के बीच जल विद्युत परियोजना की सुरक्षा से साथ ही बॉर्डर इलाकों में होने वाली तस्करी को रोकना बताया.

वहीं सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के डीएसपी अमित सिंह का कहना है कि पंचेश्वर के इलाके में नेपाल की बीओपी स्थापित होने के बाद काली नदी के किनारे नेपाली सुरक्षाबलों की हर वक्त गश्त जारी रहेगी. इस बीओपी के लिए नेपाल सरकार ने 15 नाली जमीन भी अधिकृत कर ली है. इस जमीन पर जल्द ही जवानों के रहने के लिए भवनों का निर्माण किया जाएगा. साथ ही बैरक और ऑफिस भी बनाए जाएंगे. भारत के साथ सीमा विवाद के बाद इस इलाके में नेपाल की चौथी बीओपी खुली है. इससे पहले नेपाल ने छांगरू, खलंगा, झूलाघाट में भी बीओपी बनाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading