लाइव टीवी

पेयजल लाइन तो बिछा दी जल संस्थान ने भूस्खलन प्रभावित इलाके में बची रहने की गारंटी नहीं
Pithoragarh News in Hindi

Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: March 20, 2020, 11:48 AM IST
पेयजल लाइन तो बिछा दी जल संस्थान ने भूस्खलन प्रभावित इलाके में बची रहने की गारंटी नहीं
इससे जल संस्थान ने घाट से पिथौरागढ़ तक नई पेयजल लाइन बिछाई है लेकिन हैरानी इस बात की है कि 80 फीसदी से अधिक पाइप लाइन ऑलवेदर रोड के किनारे खुले में बिछा दी गई है.

कांग्रेस के पूर्व ज़िला अध्यक्ष मुकेश पंत का आरोप है कि जल संस्थान ने जिस तरह खुले में लाइन बिछाई है, उससे साफ है कि भ्रष्टाचार हुआ है.

  • Share this:
पिथौरागढ़ शहर और उसके आसपास के इलाकों की पेयजल आपूर्ति करने वाली घाट पेयजल योजना एक दौर में एशिया की सबसे बड़ी पम्पिंग योजना मानी जाती थी. 1980 में तैयार यह योजना ऑलवेदर रोड कटिंग के कारण बीते साल क्षतिग्रस्त हो गई थी. एनएचआई ने हर्जाने के तौर पर जल संस्थान को 5 करोड़ की धनराशि दी थी और इससे जल संस्थान ने घाट से पिथौरागढ़ तक नई पेयजल लाइन बिछाई है लेकिन हैरानी इस बात की है कि 80 फीसदी से अधिक पाइप लाइन ऑलवेदर रोड के किनारे बिछा दी गई है.

भ्रष्टाचार का आरोप

बता दें कि नियमों के मुताबिक पहाड़ों में पाइप लाइन को जमीन के भीतर डालना ज़रूरी है.खुले में पाइप लाइन बिछाने से कभी भी लाइन टूट सकती है. जिस क्षेत्र में पाइप लाइन बिछाई गई है, वहाँ अक्सर भूस्खलन होता है. यही नहीं भारी बोल्डर गिरने से भी लाइन टूट सकती है. बावजूद इसके विभाग को कोई सुध नहीं है.

इससे कांग्रेस को जल संस्थान की कार्यशैली पर सवाल खड़े करने का मौका मिल गया है. कांग्रेस के पूर्व ज़िला अध्यक्ष मुकेश पंत का आरोप है कि जल संस्थान ने जिस तरह खुले में लाइन बिछाई है, उससे साफ है कि भ्रष्टाचार हुआ है. जो धनराशि पाइपों को बिछाने में खर्च होनी चाहिए उसे विभागीय अधिकारी डकार गए हैं.



खोदने  नहीं दी सड़क

उन्होंने इस मामले की जांच कराने की मांग की है. जल संस्थान के  एई अशोक कुमार का कहना है कि ऑलवेदर रोड निर्माण के बाद एनएचआई ने सड़क खोदकर पाइप लाइन बिछाने नहीं दी, जिस कारण सड़क के किनारे खुले में लाइन बिछानी पड़ी है.

हालांकि विभाग का यह दावा गले नहीं उतरता. अगर विभाग चाहता तो ऑलवेदर रोड के बाहर भी लाइन बिछा सकता था. लेकिन विभाग ने जिस तरह अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ा है, उससे आने वाले दिनों में लोगों को पेयजल की दिक्कत से भी रूबरू होना पड़ सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पिथौरागढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 11:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,000

     
  • कुल केस

    1,603,115

    +42
  • ठीक हुए

    356,422

     
  • मृत्यु

    95,693

    +1
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर