8 मिनट के लिए खोला गया झूलापुल, भारतीय और नेपाली सेना के बीच दिखा मैत्रीपूर्ण नजारा
Pithoragarh News in Hindi

8 मिनट के लिए खोला गया झूलापुल, भारतीय और नेपाली सेना के बीच दिखा मैत्रीपूर्ण नजारा
नेपाल सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के एसपी नरेंद्र बहादुर बम ने एसएसबी के इंस्पेक्टर कश्मीर सिंह को शॉल भेंट कर स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं.

धारचूला (Dharchul) का इंटरनेशनल झूलापुल भारत-नेपाल के बीच विवाद का कारण है. इसी क्षेत्र में कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधूरा है, जिसे नेपाल ने नए राजनीतिक नक्शे में अपना भू-भाग दर्शाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 10:29 PM IST
  • Share this:
पिथौरागढ़. चीन बॉर्डर (China border) को जोड़ने वाली लिपुलेख (Lipulekh) सड़क के उद्घाटन के बाद विवादित नेपाल बॉर्डर (Nepal border) पर दोनों मुल्कों के बीच आपसी भाईचारे की झलक दिखाई दी. असल में भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर धारचूला (Dharchula) का इंटरनेशनल झूलापुल 8 मिनट के लिए खोला गया. इस दौरान नेपाल बॉर्डर पर तैनात सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के अधिकारियों और जवानों को भारत की सशस्त्र सीमा बल के अधिकारियों ने मिठाई खिलाई. जिसके जवाब में नेपाली सुरक्षा अधिकारियों ने एसएसबी के अधिकारियों को नेपाली शॉल भेंट की. दोनों मुल्कों के बीच 8 मई के बाद पहली बार इस तरह का मैत्रीपूर्ण नजारा देखने को मिला.

नेपाली सेना ने दिया शॉल तो भारत ने खिलाई मिठाई

नेपाल सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के एसपी नरेंद्र बहादुर बम ने एसएसबी के इंस्पेक्टर कश्मीर सिंह को शॉल भेंट कर स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं. जबकि भारतीय जवानों ने नेपाली जवानों को मिठाई खिलाई. इस खास मौके पर नेपाल छांगरु यूनिट के डीएसपी धीरेंद्र शाह भी मौजूद थे. लिपुलेख विवाद के बाद नेपाल ने सबसे पहले छांगरु में ही बीओपी खोली थी. 8 मिनट तक दोनों मुल्कों के सुरक्षा अधिकारियों ने कुछ जरूरी मुद्दों पर चर्चा भी की. दोनों मुल्कों के अधिकारियों ने कहा कि इस तरह की मैत्रीपूर्ण मुलाकातों से रिश्तों की गर्माहट बनी रहती है. साथ ही बॉर्डर पर सुरक्षा में सहूलियत होती है.



मुल्कों के बीच विवाद, सरहद पर प्रेम
जिस इलाके में स्वतंत्रता दिवस पर दोनों मुल्कों के सुरक्षा अधिकारियों ने मुलाकात की वही भारत-नेपाल के बीच विवाद का कारण है. इसी क्षेत्र में कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधूरा है, जिसे नेपाल ने नए राजनीतिक नक्शे में अपना भू-भाग दर्शाया है. 380 वर्ग किलोमीटर का ये इलाका 1816 की सुगौली संधि के बाद से ही भारत का अभिन्न हिस्सा है. इसी हिस्से से भारत ने भारत-नेपाल और चाइना के ट्राई जंक्शन लिपुलेख तक सड़क बनाई है, जो भारतीय सुरक्षा के लिहाज से खासी अहम मानी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading