मुश्किल में पड़ सकती है कैलाश-मानसरोवर यात्रा, सिर्फ COVID-19 ही नहीं ये भी हैं कारण...
Pithoragarh News in Hindi

मुश्किल में पड़ सकती है कैलाश-मानसरोवर यात्रा, सिर्फ COVID-19 ही नहीं ये भी हैं कारण...
इस साल बर्फबारी के कारण खतरे में पड़ सकती है कैलाश मानसरोवर यात्रा. (सांकेतिक फोटो)

कैलाश-मानसरोवर यात्रा (Kailash Mansarovar Yatra) इस साल मुश्किल में पड़ सकती है. इसका कारण है कोरोना का कहर और मौसम का बदला हुआ मिजाज. दिसंबर से लगातार हो रही बर्फबारी से रास्ते में 15-20 फीट बर्फ जमी हुई है.

  • Share this:
पिथौरागढ़. दुनिया की सबसे दुर्गम पैदल धार्मिक यात्राओं में शुमार कैलाश-मानसरोवर यात्रा का आयोजन इस साल खासा मुश्किल भरा नजर आ रहा है. चीन में मौजूद मानसरोवर झील और पवित्र कैलाश पर्वत के दर्शनों के लिए जाने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए कोरोना वायरस (Coronavirus) तो पहले से ही खतरा बना हुआ है. साथ ही मौसम का मिजाज भी यात्रा के आड़े आ रहा है. इस साल मार्च के महीने में भी पिथौरागढ़ के ऊंचे इलाकों में भारी बर्फबारी हो रही है.

मानसरोवर के मार्ग में 15-20 फीट बर्फ जमी हुई है
पिथौरागढ़ के तवाघाट से मानसरोवर यात्री लिपुलेख दर्रा पार कर चाइना में प्रवेश करते हैं. बॉर्डर डिस्ट्रिक्ट पिथौरागढ़ में सर्दियों का जो सीजन इस बार दिसंबर में शुरू हुआ वो बदस्तूर अभी भी जारी है. आलम ये है कि इस विंटर सीजन में 25 से अधिक बार भारी बर्फबारी हो गई है. आए दिन हो रही बर्फबारी के कारण मानसरोवर यात्रा मार्ग पूरी तरह सफेद चादर में लिपटा हुआ है. अभी भी मानसरोवर यात्रा मार्ग में 15 से 20 फिट तक बर्फ जमा है. कैलाश-मानसरोवर जाने के लिए यात्रियों को 18 हज़ार फीट की ऊंचाई को पार करना होता है. बीते सालों तक इतनी बर्फबारी नही होती थी, लेकिन इस बार हिमालय में मौसम का मिजाज पूरी तरह बदला है. बर्फबारी होने से अब तक मानसरोवर यात्रा मार्ग को खोला नहीं जा सका है.

बर्फबारी के कारण रास्ते खोलने में आ रही दिक्कत



पिथौरागढ़ के डीएम विजय कुमार का कहना है कि उच्च हिमालयी क्षेत्र में तैनात बीआरओ और आईटीबीपी को रास्तों को खोलने को कहा गया है, लेकिन आए दिन हो रही बर्फबारी से रास्तों को खोलने में खासी दिक्कत आ रही है.



कुमाऊं मंडल विकास निगम का प्लान बी भी तैयार है
मानसरोवर यात्रा का संचालन करने वाले कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) के अध्यक्ष केदार जोशी को भरोसा है कि यात्रा शुरू होने तक कोरोना का संक्रमण तो खत्म हो ही जाएगा साथ ही मौसम में भी सुधार हो आएगा. लेकिन सवाल ये बना हुआ है कि आखिर मात्र 2 महीनों में दो देशों के बीच होने वाली इस धार्मिक यात्रा की सभी तैयारियां पूरी कैसे होंगी? हालांकि केएमवीएन ने प्लान बी भी तैयार किया है, जिसके तहत मानसरोवर यात्रा न होने पर भारतीय सीमा में होने वाली आदि कैलाश यात्रा को व्यापक रूप में किया जाएगा.

ये भी पढ़ें :-

कोरोना का खौफः उत्तराखंड सचिवालय एक हफ्ते बंद, घर से काम करेंगे कर्मचारी
जनरल-ओबीसी कर्मचारियों की हड़ताल ख़त्म... अब एससी-एसटी कर्मचारी आंदोलन की राह पर, धर्मांतरण पर भी विचार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading