Lockdown : भारत में फंसे डेढ़ हजार नेपाली नागरिकों की महीने भर बाद हुई घर वापसी
Pithoragarh News in Hindi

Lockdown : भारत में फंसे डेढ़ हजार नेपाली नागरिकों की महीने भर बाद हुई घर वापसी
राहत शिविरों में क्वारंटाइन किए गए 1500 नेपालियों की घर वापसी हुई (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नेपाली नागरिक इस बात से भी खुश हैं कि रबी की फसल के पकते वक्त वो अपने घर पहुंच जाएंगे. असल में हर साल इस सीजन में नेपाली नागरिक अपने घरों को लौटते थे, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन के कारण वो भारत में ही फंस गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 10:08 PM IST
  • Share this:
पिथौरागढ़. घर वापसी की आस लगाए बैठे करीब डेढ़ हजार नेपाली नागरिकों के लिए गुरुवार की सुबह वह खुशी लाई, जिसका इंतजार वो बेसब्री से कर रहे थे। पिथौरागढ़ के चारों राहत शिविरों में लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से रुके नेपालियों की अलग-अलग रास्तों से घर वापसी हो गई है।

SSB, पुलिस और स्थानीय प्रशासन की मौजूदगी में नेपालियों को किया रवाना

पिथौरागढ़ में नेपाल के दार्चुला, बजांग और बैतड़ी जिलों के नागरिक फंसे थे. मुख्यालय के डिग्री कॉलेज राहत शिविर में रुके नेपालियों को बस के जरिए धारचूला और झूलाघाट भेजा गया. जबकि धारचूला, बलुआकोट और झूलाघाट के शिविरों में रुके नेपालियों को अंतरराष्ट्रीय झूला पुलों को खोल कर स्वदेश वापसी कराई गई. धारचूला, झूलाघाट और बलुआकोट के अंतरराष्ट्रीय झूला पुलों को सुबह 7 बजे खोल दिया गया था. स्वदेश लौटने के बाद सभी नेपाली नागरिकों को क्वारंटाइन भी किया जा रहा है. बॉर्डर पर SSB, पुलिस और स्थानीय भारतीय प्रशासन की मौजूदगी में नेपालियों को रवाना किया गया. स्वदेश लौटने वाले नेपाली नागरिक रमेश ठकुन्ना ने न्यूज़ 18 को बताया कि वे अपने साथियों के साथ मुल्क वापसी से खासे खुश हैं. वापसी के लिए ठकुन्ना ने भारत और नेपाल की सरकारों के साथ स्थानीय भारतीय प्रशासन का भी आभार जताया. वहीं वापसी करने वाले धन बहादुर ने कहा कि पिथौरागढ़ प्रशासन ने एक महीने से भी अधिक वक्त तक हजारों लोगों के रहने और खाने का बेहतरीन इंतजाम किया था.







रबी की फसल के पकते वक्त वे अपने घर पहुंच जाएंगे

नेपाली नागरिक इस बात से भी खुश हैं कि रबी की फसल के पकते वक्त वो अपने घर पहुंच जाएंगे. असल में हर साल इस सीजन में नेपाली नागरिक अपने घरों को लौटते थे, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन के कारण वो भारत में ही फंस गए थे. लॉकडाउन के बाद 14 नेपाली इस कदर बेताब थे कि उन्होंने काली नदी में छलांग लगाकर मुल्क वापसी की. पिथौरागढ़ के डीएम विजय जोगदांडे ने बताया कि कुछ रोज पहले नेपाल सरकार ने अपने नागरिकों की वापसी को लेकर सहमति जताई थी, जिसके बाद सभी जरूरी औपचारिकताओं को पूरा कर नेपालियों की मुल्क वापसी का रास्ता साफ किया गया.

इन्हें भी पढ़ें

इस बार नहीं मिल पाएगा औषधीय गुणों वाले बुरांस का जूस, लॉकडाउन से ठप है कारोबार

लॉकडाउन के बीच हरियाणा से ट्रक-मज़दूर पहुंच गए उत्तरकाशी, ग्रामीणों ने लौटाया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading