Home /News /uttarakhand /

मुनस्यारी में चीन सीमा से लगे अंतिम गांव मिलम तक बन रही सड़क, जीरो डिग्री तापमान में भी काम जारी

मुनस्यारी में चीन सीमा से लगे अंतिम गांव मिलम तक बन रही सड़क, जीरो डिग्री तापमान में भी काम जारी

यह

यह सड़क लिपुलेख को जाती है.

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ की दो सीमांत तहसील धारचूला और मुनस्यारी चीन सीमा से लगी हुई हैं. 

    पिथौरागढ़ के चीन सीमा से लगे मिलम गांव (Milam Village Munsyari Pithoragarh) के लोग सैनिकों के साथ देश के लिए अपना योगदान देने को हमेशा तत्पर रहते हैं. मिलम गांव मुनस्यारी ब्लॉक में भारत का अंतिम गांव है, जोकि बर्फीला इलाका है. अन्य लोगों का सर्दियों के मौसम में इस क्षेत्र में रहना लगभग नामुमकिन है. जहां पर तापमान शून्य से भी नीचे रहता है, ऐसी स्थिति में भी मिलम क्षेत्र के लोग सीमा सड़क संगठन (BRO) के साथ कंधे से कंधा मिलाकर भारत के इस अंतिम गांव तक सड़क बना रहे हैं.

    पिथौरागढ़ में जौहार वैली के यह दुर्गम इलाके अभी तक सड़क, शिक्षा, बिजली, अस्पताल, संचार जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं. इसी क्षेत्र में मिलम ग्लेशियर मौजूद है, जोकि उत्तराखंड के सबसे बड़े ग्लेशियरों में से एक है. यहीं से होकर नंदा देवी बेस कैंप तक पहुंचा जाता है. अभी पैदल दूरी तय करके मिलम पहुंचने में पांच दिन का समय लगता है.

    उत्तराखंड के पिथौरागढ़ की दो सीमांत तहसील धारचूला और मुनस्यारी चीन सीमा से लगी हुई हैं. धारचूला तहसील के अंतर्गत चीन सीमा तक सड़क तैयार हो चुकी है. मुनस्यारी के मिलम गांव तक 70 किलोमीटर लंबी सड़क को 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य सीमा सड़क संगठन द्वारा तय किया गया है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर