लाइव टीवी

COVID-19: नेपाल ने अपनों के लिए बंद किए वापसी के रास्ते, ग्रामीणों ने बढ़ाए मदद के हाथ
Pithoragarh News in Hindi

Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: March 28, 2020, 1:10 PM IST
COVID-19: नेपाल ने अपनों के लिए बंद किए वापसी के रास्ते, ग्रामीणों ने बढ़ाए मदद के हाथ
धारचूला में फंसे नेपाली मजदूरों की मदद के लिए ग्रामीण आगे आए

बॉर्डर तहसील धारचूला की कुटी, रोकांग, गुंजी, बूदी, नपलचु और गर्ब्यांग की ग्राम सभाओं ने मिलकर फंसे 180 नेपाली मजदूरों के लिए कई जरूरी सामान इकट्ठा कर लिया है.

  • Share this:
पिथौरागढ़. कोरोना (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए नेपाल सरकार ने इतनी जल्दी दिखाई कि उसने भारत मे काम करने वाले अपनों की भी परवाह नहीं की. नतीजा ये रहा कि बीते 6 दिनों से हज़ारों नेपाली मजदूर (Nepali Labour) दर-बदर की ठोकरें खाने को मजबूर हो गए हैं. लेकिन धारचूला बॉर्डर (Dharchula Border) में फंसे नेपालियों के लिए अच्छी बात ये रही कि बॉर्डर की 6 ग्राम सभाओं ने इनकी भरपूर मदद के लिए हरसंभव कोशिश की है. बॉर्डर तहसील धारचूला की कुटी, रोकांग, गुंजी, बूदी, नपलचु और गर्ब्यांग की ग्राम सभाओं ने मिलकर फंसे 180 नेपाली मजदूरों के लिए कई जरूरी सामान इकट्ठा कर लिया है.

छह ग्राम सभाओं ने जुटाए हजारों की रशद

इन ग्राम सभाओं ने 40 हजार रुपये का राशन, तेल, मसाले, पानी की बोतल और खाना बनाने के लिए लड़कियों का इंतजाम किया है. इनकी अपील पर धारचूला नगरपालिका ने मजदूरों के रहने के लिए काजी हाउस खोल दिया है, जबकि धारचूला पुलिस ने बर्तन दिए हैं. वहीं बॉर्डर पर तैनात एसएसबी ने मास्क, सेनेटाइजर और ग्लब्स दिए हैं.



'मुश्किल वक्त में अकेला छोड़ना इंसानियत के खिलाफ'



कुटी के ग्राम प्रधान धर्मेंद्र कुमार का कहना है कि नेपाल के साथ बॉर्डर इलाकों के लोगों का रोटी-बेटी का रिश्ता है. इतना ही नहीं नेपाली मजदूरों की मदद से बॉर्डर इलाकों में विकास योजनाओं को भी अंजाम दिया जाता है. ऐसे में कठिन वक़्त में उन्हें अकेला छोड़ना इंसानियत के खिलाफ होगा.

धर्मेंद्र ने नेपाल सरकार के रुख पर हैरानी भी जताई. वहीं असहाय नेपाली मजदूरों ने भावुक होकर भारतीयों द्वारा दी जा रही मदद पर आभार जताया. एक नेपाली मजदूर ने कहा कि उन्हें हैरानी हो रही है कि कैसे उनकी सरकार ने अपने नागरिकों के लिए रास्ते बंद कर दिए. उनके परिवार के लोग भी उनको लेकर चिंतित हैं.

ये भी पढ़ें: अल्मोड़ा: गुरिल्ला संगठन ने 3801वें दिन भी धरना रखा जारी, दो घंटे ही बैठेंगे

चीन और नेपाल से सटा पिथौरागढ़ NH पांच दिन बाद खुला, लोगों ने ली राहत की सांस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पिथौरागढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 1:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading