होम /न्यूज /उत्तराखंड /

उत्तराखंड को नेपाल से जोड़ने वाले 7 इंटरनेशनल पुल 72 घंटों के लिए रहेंगे बंद, जानें वजह

उत्तराखंड को नेपाल से जोड़ने वाले 7 इंटरनेशनल पुल 72 घंटों के लिए रहेंगे बंद, जानें वजह

इंटरनेशनल पुल बंद होने से दोनों देशों के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा.

इंटरनेशनल पुल बंद होने से दोनों देशों के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा.

Indo-Nepal Border: उत्तराखंड में भारत और नेपाल को जोड़ने वाले सभी इंटरनेशनल पुल 10 मई की शाम 7 बजे से 72 घंटों के लिए बंद कर दिए जाएंगे. इसकी वजह पड़ोसी देश में स्थानीय निकाय के चुनाव हैं. बता दें कि उत्तराखंड में भारत का नेपाल से 275 किलोमीटर का खुला बॉर्डर है. इस बॉर्डर पर 8 इंटरनेशनल पुल हैं,जो दोनों मुल्कों को आपस में जोड़ते हैं.

अधिक पढ़ें ...

पिथौरागढ़. उत्तराखंड में नेपाल को जोड़ने वाले सभी इंटरनेशनल पुल 10 मई की शाम 7 बजे से 72 घंटों के लिए बंद कर दिए जाएंगे. दरअसल नेपाल में स्थानीय निकाय के चुनाव चल रहे हैं, जिसे देखते हुए 3 दिनों के लिए दोनों मुल्कों के बीच आवाजाही पर पूरी तरह रोक लगाई गई है. यही नहीं, नेपाल प्रशासन ने भारतीय प्रशासन ने निकाय चुनावों को शांतिपूर्वक कराने के लिए इंटरनेशनल पुलों को बंद करने की गुजारिश की थी, जिसे भारतीय प्रशासन ने स्वीकार किया है.

पिथौरागढ़ के डीएम आशीष चौहान ने बताया कि नेपाली प्रशासन का मांग पत्र उन्हें मिला है. इसके बाद दार्चुला और बेतड़ी जिले को जोड़ने वाले सभी पुलों को भारत की ओर से भी 72 घंटों को लिए बंद करने का फैसला लिया गया है.

बता दें कि उत्तराखंड में भारत की नेपाल से 275 किलोमीटर का खुला बॉर्डर है. इस बॉर्डर पर 8 इंटरनेशनल पुल हैं,जो दोनों मुल्कों को आपस में जोड़ते हैं. इनमें सीतापुल, धारचूला, बलुआकोट, जौलजीवी, झूलाघाट,ढोडा और टनकपुर झूलापुल हैं. जबकि बनबसा मोटरपुल है. दोनों मुल्कों को जोड़ने वाले सभी पुलों को खास मौकों पर बंद कर दिया जाता है.

लोगों को हो सकती है मुश्किल
वहीं, लंबे समय तक पुलों के बंद होने से बॉर्डर पर बसे दोनों मुल्कों के नागरिकों को दिक्कतें भी उठानी पड़ती हैं. असल में बॉर्डर इलाकों में दोनों मुल्कों का कारोबार एक-दूसरे पर निर्भर है.जबकि सामाजिक तानाबाना भी दोनों मुल्कों का एक जैसा है. इसके अलावा शादियों के सीजन में इंटरनेशनल पुल बंद होने से दिक्कतों में इजाफा होगा, क्‍योंकि अभी भी दोनों मुल्कों के बीच रोटी और बेटी के रिश्ते कायम हैं.

Tags: Indo-Nepal Border, Pithoragarh news, Uttarakhand news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर