होम /न्यूज /उत्तराखंड /Pithoragarh: बेमौसमी सब्जियों के उत्पादन से किसानों को होगा फायदा, कृषि विज्ञान केंद्र की लीजिए मदद

Pithoragarh: बेमौसमी सब्जियों के उत्पादन से किसानों को होगा फायदा, कृषि विज्ञान केंद्र की लीजिए मदद

Pithoragarh News: पिथौरागढ़ के किसान भी पॉली हाउस में बेमौसमी सब्जियों की खेती करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. इसके लिए ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट: हिमांशु जोशी

    पिथौरागढ़. पहाड़ों में किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए बेमौसमी सब्जियां काफी मददगार साबित हो सकती हैं. उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले की अगर हम बात करें, तो यहां ज्यादातर सब्जियां मैदानी जिलों से आती हैं.हालांकि इनमें कई सब्जियां ऐसी हैं, जिनका उत्पादन ठंड के कारण जिले में नहीं हो पाता है और सर्दियों के समय इन सब्जियों की मांग ज्यादा होने के कारण इसके दाम भी बाजार में अधिक रहते हैं, तो आज हम आपको बेमौसमी सब्जियों के उत्पादन में होने वाले मुनाफे के बारे में बता रहे हैं. इससे पहाड़ी इलाकों के किसान अपनी आमदनी को बढ़ा सकते हैं.

    पिथौरागढ़ जिले में इन दिनों टमाटर और शिमला मिर्च की मांग ज्यादा है और गर्मी में होने वाली ये सब्जियां मैदानी इलाकों से आ रही हैं. पहाडों में पॉली हाउस की मदद से इन सब्जियों का उत्पादन जाड़ों में भी आसानी से किया जा सकता है, जिसके लिए पिथौरागढ़ का कृषि विज्ञान केंद्र किसानों की मदद कर रहा है.

    बेमौसमी सब्जियों के फायदे जानने के लिए ‘न्यूज़ 18 लोकल’ ने यहां के कृषि वैज्ञानिक डॉ. अभिषेक बहुगुणा से बात की. डॉ बहुगुणा ने बताया कि उन्होंने बेमौसमी सब्जियों के उत्पादन में प्रयोग किया और कृषि विज्ञान केंद्र में ही टमाटर और शिमला मिर्च की खेती शुरू की, जिसका प्रयास काफी सफल रहा और उनकी उगाई गयी सब्जियां कृषि विज्ञान केंद्र से ही बिक जा रही हैं, जिसकी अच्छी कीमत भी उन्हें मिल रही है. ठीक इसी प्रकार जनपद के किसान भी पॉली हाउस में बेमौसमी सब्जियों की खेती करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं और जिन किसानों के पास पॉली हाउस नहीं है. वह खुले में मटर की खेती कर सकते हैं, जिससे उन्हें भी फायदा मिलेगा.

    आगे बातचीत में डॉ. बहुगुणा बताते हैं कि किसानों को सब्जी उत्पादन से जुड़ी हर प्रकार की मदद उनके द्वारा की जाती है. कोई भी किसान खेती से संबंधित जानकारी कृषि विज्ञान केंद्र से ले सकता है. उनका लक्ष्य जनपद में कृषि को बढ़ावा देकर किसानों की आय को बढ़ाना है. वहीं, इसके केंद्र का पता- कृषि विज्ञान केंद्र, गैना – ऐंचोली, पिथौरागढ़ है. वहीं, यहां का फोन नंबर- 05964 – 252175 है.

    Tags: Pithoragarh news, Uttarakhand news, Vegetables

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें