सफल रहा ऑपरेशन डेयर डेविल: नंदा देवी से 7 पर्वतारोहियों के शव पिथौरागढ़ लाए गए

नंदादेवी पर्वतारोहण के इतिहास यह पहला मौका है, जब यहां लापता हुए किसी पर्वतारोही का शव निकालने में सफलता मिली है.

Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 4:27 PM IST
सफल रहा ऑपरेशन डेयर डेविल: नंदा देवी से 7 पर्वतारोहियों के शव पिथौरागढ़ लाए गए
भारत में अब तक का सबसे कठिन और बड़ा सर्च अभियान ‘ऑपरेशन डेयर डेविल’ सफल हो गया है. आईटीबीपी के जांबाजों ने दुनिया की सबसे दुर्गम चोटी नंदादेवी ईस्ट से 7 पर्वतारोहियों के शवों को निकालने में सफलता पा ली है.
Vijay Vardhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 4:27 PM IST
भारत में अब तक का सबसे कठिन और बड़ा सर्च अभियान ‘ऑपरेशन डेयर डेविल’ सफल हो गया है. आईटीबीपी के जांबाजों ने दुनिया की सबसे दुर्गम चोटी नंदादेवी ईस्ट से 7 पर्वतारोहियों के शवों को निकालने में सफलता पा ली है. नंदादेवी पर्वतारोहण के इतिहास यह पहला मौका है, जब यहां लापता हुए किसी पर्वतारोही का शव निकालने में सफलता मिली है. एक पर्वतारोही का शव नंदा देवी ईस्ट में ही रह गया है.

असंभव को किया संभव 

इस साल 26 मई को जब नंदा देवी ईस्ट में 8 पर्वतारोहियों का दल लापता हुआ था तो किसी ने भी नहीं सोचा था कि कभी इन्हें खोजा जा सकेगा. लेकिन इस असंभव को संभव कर दिखाया आईटीबीपी के 32 जांबाज़ पर्वतारोहियों ने. 21000 फ़ीट से अधिक की ऊंचाई से आईटीबीपी की सर्च टीम ने सात शवों को निकालने में सफलता पाई है. 16 दिन तक चले ‘ऑपरेशन डेयर डेविल’ में आईटीबीपी के जांबाज़ों ने वह कर दिखाया जब अब तक नहीं हुआ था. इससे पहले कभी भी नंदा देवी में लापता हुए पर्वतारोहियों का कोई सुराग नहीं मिला था.

पर्वतारोहियों की तलाशः एयरफ़ोर्स, आर्मी के साथ मिलकर चलाया जाएगा सर्च ऑपरेशन

भारतीय पर्वतारोहण के इतिहास में सबसे बड़े सर्च ऑपरेशन माने जा रहे इस ऑपरेशन को सफल बनाने में आईटीबीपी के जवानों की इंडियन एयरफोर्स ने भी पूरी मदद की. एयरफोर्स की मदद से ही उस स्पॉट की तलाश हो पाई जहां पर्वतारोहियों के शव मौजूद थे. 21000 फ़ीट की ऊंचाई पर मिले सातों शवों को सर्च टीम ने हफ्ते भर में 15000 फ़ीट पर मौजूद, बेस कैंप 1, तक पहुंचाया.

भारतीय और महिला की पहचान 

वहां से आज वायुसेना के चार हैलिकॉप्टर्स की मदद से शवों को नैनी-सैनी एयरपोर्ट पहुंचाया गया. सातों शवों में अब तक सिर्फ भारतीय चेतन पाण्डे और आस्ट्रेलिया की महिला पर्वतारोही रूथ मैकन्स की ही पहचान हो पाई है.
Loading...

ऐवलांच के शिकार हुए पर्वतारोही दल में 4 बिट्रिश, 2 अमेरिकन, एक आस्ट्रेलियन और एक भारतीय नागरिक है. 7 शवों को तो आईटीबीपी के जाबांजों ने खोज निकाला है लेकिन एक पर्वतारोही का अब भी कुछ पता नहीं चला है.

नंदा देवी ईस्ट में लापता आखिरी पर्वतारोही की तलाश शुरु, 7 शवों को लाने में लगेंगे 2 से 3 दिन

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें
First published: July 3, 2019, 4:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...