होम /न्यूज /उत्तराखंड /साउथ कोरिया में गोल्ड मेडल जीतने वाली शूटर यशस्वी जोशी का जोरदार स्वागत, बोलीं-अब ओलंपिक पर है नजर

साउथ कोरिया में गोल्ड मेडल जीतने वाली शूटर यशस्वी जोशी का जोरदार स्वागत, बोलीं-अब ओलंपिक पर है नजर

Yashasvi Joshi: पिथौरागढ़ की बेटी यशस्वी जोशी ने दक्षिण कोरिया में आयोजित इंटरनेशनल शूटिंग रेंज में गोल्ड मेडल जीतकर पूर ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट: हिमांशु जोशी

    पिथौरागढ़. उत्तराखंड राज्य और पिथौरागढ़ जिले के प्रतिभावान खिलाड़ियों की लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है. पिथौरागढ़ की बेटी यशस्वी जोशी (Yashasvi Joshi) ने दक्षिण कोरिया में आयोजित इंटरनेशनल शूटिंग रेंज में गोल्ड मेडल जीतकर पूरे प्रदेश का नाम रोशन किया है. उनकी इस उपलब्धि से पूरे पिथौरागढ़ में खुशी की लहर है.बता दें कि पिथौरागढ़ के चंडाक निवासी मनोज जोशी की बेटी यशस्वी जोशी बचपन से ही शूटिंग का प्रशिक्षण ले रही हैं. हाल ही में डाएगु कोरिया में 9 से 19 नवंबर तक आयोजित शूटिंग प्रतियोगिता में यशस्वी ने 10 मीटर एयर पिस्टल में गोल्ड मेडल हासिल किया है, जिनका पिथौरागढ़ पहुंचने पर शहरवासियों ने जोरदार स्वागत किया.

    यशस्वी जोशी ने ‘न्यूज़ 18 लोकल’ से बातचीत में बताया कि वह 9 साल से अपने पिता से शूटिंग की बारीकियां सीख रही हैं. उनके पिता ही उनके कोच हैं. वह उन्हें बचपन से शूटिंग करते हुए देखती थीं और उन्हीं से प्रेरणा लेकर अब उनका निशाना ओलंपिक खेलों के गोल्ड पर रहेगा.

    यशस्वी जोशी ने यह प्रतियोगिता साउथ कोरिया में जीती है. यशस्वी इससे पहले कई नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर प्रतिभाग कर मेडल जीत चुकी हैं. यशस्वी के कोच खुद उनके पिता हैं, जो नेशनल शूटर रह चुके हैं. पिथौरागढ़ के चंडाक में स्थित ‘बुल्स आई’ शूटिंग रेंज उन्हीं का है, जो कुमाऊं का पहला ऐसा शूटिंग रेंज है, जहां पर शूटिंग जैसे खेलों का प्रशिक्षण दिया जाता है.

    यशस्वी नाम हैं इतने मेडल
    यशस्वी के पिता मनोज जोशी ने बताया कि यशस्वी अभी तक 15 स्टेट, 5 नेशनल मेडल जीत चुकी हैं. उन्होंने यहां बिना किसी सरकारी मदद से शूटिंग जैसे खेलों को बढ़ावा देने के लिए शूटिंग रेंज बनाई है, जिसमें वह अन्य बच्चों को भी तैयार कर रहे हैं. 16 वर्षीय यशस्वी जो दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन कर रही हैं, उन्हें वह बचपन से ही शूटिंग की बारीकियां सिखाते आए हैं. यशस्वी का अगला टारगेट ओलंपिक खेलों में पदक लाने का है.

    गौरतलब है कि पिथौरागढ़ जिले में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, बस उन्हें बचपन से ही तराशने की जरूरत है. इससे पहले भी सीमांत जिले से निकलकर बॉबी धामी भारतीय हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं और बॉक्सिंग के क्षेत्र में भी यहां की लड़कियों ने राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन किया है.

    Tags: Asian Games, Pithoragarh news, Sports news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें