होम /न्यूज /उत्तराखंड /Pithoragarh: सरकारी ब्लड बैंक पर उठे सवाल तो मचा हड़कंप, मजिस्ट्रेट जांच के आदेश, जानें मामला

Pithoragarh: सरकारी ब्लड बैंक पर उठे सवाल तो मचा हड़कंप, मजिस्ट्रेट जांच के आदेश, जानें मामला

सरकारी ब्लड बैंक के मामले को लेकर पिथौरागढ़ एसडीएम तोमर ने आगे कहा कि इस संबंध के किसी के पास भी अगर कोई शिकायत और साक्ष ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट- हिमांशु जोशी

    पिथौरागढ़. उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में सरकारी ब्लड बैंक पर लगे संगीन आरोपों ने यहां के स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मचा दिया है. जिला ब्लड बैंक पर अन्य प्राइवेट संस्थानों को रक्त और जांच से संबंधित उपकरण बेचने का आरोप लगा है, जिसमें मजिस्ट्रेट जांच के आदेश हुए हैं. ब्लड बैंक प्रबंधन पर अंतरराष्ट्रीय रक्तदान दिवस में यहां बिना जांच के ही खून अन्य जगह पर देने के आरोप भी सामने आए हैं. पिथौरागढ़ के एसडीएम सुंदर तोमर ने बताया कि ब्लड बैंक प्रबंधन पर जिला प्रशासन को लापरवाही की शिकायत मिली है, जिस पर साक्ष्य इकट्ठा किए जा रहे हैं. इस संबंध में उनके द्वारा विज्ञप्ति भी जारी की गई है. मामले की गंभीरता को लेकर इस विषय में जानकारी देने के लिए लोगों से अपील भी की गई है.

    एसडीएम तोमर ने आगे कहा कि इस संबंध के किसी के पास भी अगर कोई शिकायत और साक्ष्य हैं, तो वह एसडीएम कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं. वहीं, ब्लड बैंक प्रबंधन पर लगे आरोपों से यह इन दिनों चर्चा का विषय भी बना हुआ है. दरअसल रक्तदान करने के लिए खून की जांच होना जरूरी होता है और अलग-अलग बीमारियों के लिए अलग जांच किट होती है, जिनकी कीमत भी बीमारियों के हिसाब से तय होती है. ब्लड बैंक प्रबंधन पर इन किट का इस्तेमाल न कर इन्हें अन्य प्राइवेट संस्थाओं को बेचने के आरोप लगे हैं.

    इस मामले में जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ जेएस नबियाल से जब बात की गई, तो उन्होंने बताया कि इस मामले में विभागीय जांच हो चुकी है, जिसमें ऐसा कोई प्रकरण सामने नहीं आया है. बिना तथ्यों के इसे हवा न देने और मजिस्ट्रेट जांच में दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करने की बात भी सीएमएस ने कही है.

    Tags: Blood bank, Pithoragarh news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें