उत्तराखंड कांग्रेस में रार! हरीश रावत के पूर्व सहयोगी रंजीत रावत ने लगाए बड़े आरोप

सल्ट विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार गंगा पंचोली के प्रचार में बीमार होने के कारण हरीश रावत अभी तक नहीं पहुंच पाए हैं (फाइल फोटो)

सल्ट विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार गंगा पंचोली के प्रचार में बीमार होने के कारण हरीश रावत अभी तक नहीं पहुंच पाए हैं (फाइल फोटो)

रंजीत रावत का कहना है कि सल्ट विधानसभा के उपचुनाव (Sult Assembly Byelection) में अपने गुट की गंगा पंचोली को जिताने के लिए भले ही हरीश रावत (Harish Rawat) इमोशनल कार्ड खेल रहे हों, देवी-देवताओं तक का आह्वान कर रहे हों. लेकिन हमारे देवता उसकी पुकार कैसे सुन सकते हैं, जिसने सत्ता बचाने के लिए उनकी बलि चढ़ाई हो

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 4:22 PM IST
  • Share this:
पिथौरागढ़. सल्ट विधानसभा उपचुनाव (Sult Assembly Byelection) में जीत के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (Harish Rawat) जमकर इमोशनल कार्ड खेल रहे हैं. वहीं, कभी उनके करीबी कहे जाने वाले उत्तराखंड कांग्रेस (Uttarakhand Congress) के प्रदेश उपाध्यक्ष और सल्ट के पूर्व विधायक रंजीत रावत (Ranjeet Rawat) ने हरीश रावत को ही कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की है. रंजीत रावत का कहना है कि सल्ट विधानसभा के उपचुनाव में अपने गुट की गंगा पंचोली को जिताने के लिए भले ही हरीश रावत इमोशनल कार्ड खेल रहे हों, देवी-देवताओं तक का आह्वान कर रहे हों. लेकिन हमारे देवता उसकी पुकार कैसे सुन सकते हैं, जिसने सत्ता बचाने के लिए उनकी बलि चढ़ाई हो.

रंजीत रावत ने कहा कि हरीश रावत को अपने कर्मो को देखना चाहिए. उन्हें यह भी देखना चाहिए कि वो अपील क्या कर रहे हैं. रंजीत यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि हमारे यहां एक पत्ते में चावल का दाना रखने पर भी भगवान पुकार सुनते हैं. लेकिन भगवान उन्हीं की सुनते हैं, जिनका मन साफ हो.

Youtube Video


दरअसल सल्ट के पूर्व विधायक रंजीत रावत उपचुनाव में अपने बेटे के लिए कांग्रेस से टिकट मांग रहे थे. कहा जा रहा है कि हरीश रावत की आलाकमान तक पहुंच के चलते रंजीत रावत के बेटे को टिकट नहीं मिला. जिसके बाद से ही रंजीत रावत खासे नाराज चल रहे हैं, यहां तक कि वो चुनाव प्रचार में भी नहीं गए हैं.
कांग्रेस उम्मीदवार गंगा पंचोली के प्रचार में बीमार होने के कारण हरीश रावत अभी तक नहीं पहुंच पाए हैं. जिस कमी को पाटने के लिए बीते दिनों उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए कई वीडियो जारी किए थे. इन वीडियो में हरीश रावत सल्ट की जनता को इमोशनल तरीके से कांग्रेस के पक्ष में लाने की अपील करते दिखाई दिए. ऐसे अब जब उपचुनाव में कुछ ही दिन शेष बचे हैं, रंजीत रावत द्वारा हरीश रावत की खुली खिलाफत कांग्रेस के लिए परेशानी का सबब बन सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज