होम /न्यूज /उत्तराखंड /Pitru Paksha 2022: पिथौरागढ़ में पितरों के नाम पर 'पौधे' लगाकर दी श्रद्धांजलि, जानें वजह

Pitru Paksha 2022: पिथौरागढ़ में पितरों के नाम पर 'पौधे' लगाकर दी श्रद्धांजलि, जानें वजह

Pithoragarh News: शास्त्रों में कहा गया है कि जो मनुष्य अपने शरीर को छोड़कर चले गए हैं, चाहे वे किसी भी रूप में अथवा कि ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- हिमांशु जोशी

पिथौरागढ़. हिंदू धर्म में अपने पूर्वजों का श्राद्ध करने की परंपरा है. ऐसी मान्यता है कि पितृ पक्ष में पितरों के नाम पर जो भी काम किया जाता है, उसे वे सूक्ष्म रूप में आकर ग्रहण करते हैं. पितृ पक्ष के सोलह श्राद्धों (Shradh 2022) में विधि-विधान के साथ तो श्राद्ध होता ही है, लेकिन पिथौरागढ़ के विभिन्न सामाजिक संगठनों ने श्राद्ध में अपने पितरों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक अनोखी पहल शुरू की है. जिसमें वह एक पौधा अपने पितरों के नाम लगाकर उसका संरक्षण करने का संकल्प ले रहे हैं और इस मुहिम के तहत पौधे की भी पूजा की जा रही है.

पिथौरागढ़ में कुमाऊं मंडल विकास निगम (KMVN) गेस्ट हाउस में बनाई गई मानसरोवर वाटिका में इस मुहिम के तहत वृक्षारोपण किया जा रहा है. जिसमें प्रकृति के साथ-साथ पितरों के सम्मान को इस मुहिम में जोड़ा गया है. केएमवीएन पिथौरागढ़ के प्रबंधक और पर्यावरण प्रेमी दिनेश गुरुरानी के प्रयासों से मानसरोवर वाटिका तैयार की गई है, जो यहां पर्यटकों को काफी पसंद आती है. दिनेश गुरुरानी ने लोगों को वृक्षारोपण से जोड़ने के लिए इस मुहिम की शुरुआत की है.

शास्त्रों में कहा गया है कि जो मनुष्य अपने शरीर को छोड़कर चले गए हैं, चाहे वे किसी भी रूप में अथवा किसी भी लोक में हों, उनकी तृप्ति और उन्नति के लिए श्रद्धा के साथ जो शुभ संकल्प और तर्पण किया जाता है, उसे श्राद्ध कहा जाता है. समाजसेवी जुगल किशोर पाण्डे जो इस मुहिम को आगे बढ़ा रहे हैं. उनका कहना है कि पितरों के नाम का एक पौधा लगाने की मुहिम सोलह श्राद्धों में अपने पूर्वजों को सच्ची श्रद्धांजलि देने का सबसे बड़ा जरिया है.

जिससे उनके नाम का पौधा आशीर्वाद के रूप में नई पीढ़ी को एक अच्छा प्राकृतिक माहौल देगा.

Tags: Hindu funeral, Hindu Sarkar, Pithoragarh district, Pithoragarh news, Pitru Paksha, Uttrakhand ki news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें