लाइव टीवी

पिथौरागढ़: शराब की दुकानें हटाने के फैसले से महिलाओं में जगी उम्मीद

Vijay Vardhan | ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 17, 2016, 10:21 AM IST
पिथौरागढ़: शराब की दुकानें हटाने के फैसले से महिलाओं में जगी उम्मीद
पिथौरागढ हो या श्रीनगर गढ़वाल हर जगह पहाड़ में महिलाओं ने किया स्वागत

नेशनल और स्टेट हाईवे से शराब की दुकानें हटाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सीमांत जनपद पिथौरागढ़ की महिलाओं ने स्वागत किया है. महिलाओं का कहना है कि फैसले पर अमल होने से महिलाओं को राहत मिल सकेगी. राज्य आंदोलन से जुड़ी गंगा कफलिया का कहना है कि देश की सर्वोच्च अदालत ने सही फैसला लिया है.

  • Share this:
नेशनल और स्टेट हाईवे से शराब की दुकानें हटाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सीमांत जनपद पिथौरागढ़ की महिलाओं ने स्वागत किया है. महिलाओं का कहना है कि फैसले पर अमल होने से महिलाओं को राहत मिल सकेगी.

राज्य आंदोलन से जुड़ी गंगा कफलिया का कहना है कि देश की सर्वोच्च अदालत ने सही फैसला लिया है. साथ ही वे कहती है कि हाईवे किनारे शराब की दुकानें होने से जहां सड़क दुर्घटनाओं की संभावनाएं बढ़ जाती हैं.

वहीं महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटना भी बढ़ती हैं. कफलिया ने उम्मीद जताई है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने आम नागरिकों के साथ ही महिलाओं को सबसे अधिक राहत मिलेगी.

वहीं महिला आंदोलन से जुड़ीं दीपा पाण्डे कहतीं है कि फैसला ऐतिहासिक है, जिसका हर आम और खास को स्वागत करना चाहिए. लेकिन वे ये भी कहतीं है कि फैसले पर अमल भी होना चाहिए. कहीं ये न हो कि देश की सबसे बड़ी अदालत के फैसले को भी सौ फीसदी लागू करने में प्रशासन नाकाम रहे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पिथौरागढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2016, 10:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर