लद्दाख की घटना के बाद उत्तराखंड के तीनों बॉर्डर पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट
Uttarkashi News in Hindi

लद्दाख की घटना के बाद उत्तराखंड के तीनों बॉर्डर पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट
चीन की सीमा पर भारत के ढाई लाख सैनिक तैनात हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पिथौरागढ़ में चीन बॉर्डर तक जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क बनने के बाद चीन चिढ़ा हुआ भी है. बीते दिनों लिपुलेख दर्रे के पास भारत के अस्थाई निर्माण पर भी चीनी सैनिक आपत्ति जता चुके हैं.

  • Share this:
पिथौरागढ़. उत्तराखंड (Uttarkhand) के 3 बॉर्डर डिस्ट्रिक्ट पिथौरागढ़ (Pithoragarh), चमोली (Chamoli) और उत्तरकाशी (Uttarkashi) की सीमाएं चीन (China) से लगी हैं. 24 फरवरी 1960 को इन तीनों जिलों का गठन राष्ट्रीय सुरक्षा के लिहाज से किया गया था. लद्दाख (Ladakh) में चीन और भारतीय सेना (Indian army) के बीच हुए खूनी संघर्ष के बाद इन इलाकों में भी सुरक्षा तंत्र पूरी तरह चौकन्ना है. ड्रैगन चमोली के बाड़ाहोती में बीते सालों में घुसपैठ की कई बार कोशिश कर चुका है. ये बात अलग है कि भारतीय जवानों की मुस्तैदी ने उसके नापाक मंसूबों को हर बार नाकामयाब किया है.

लिपुलेख से चीनी चिढ़े

पिथौरागढ़ में चीन बॉर्डर तक जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क बनने के बाद ड्रैगन चिढ़ा हुआ भी है. बीते दिनों लिपुलेख दर्रे के पास भारत के अस्थाई निर्माण पर भी चीनी सैनिक आपत्ति जता चुके हैं. बॉर्डर से 1 किलोमीटर पहले भारत ने जवानों के लिए अस्थाई हट्स के निर्माण से चीनी नाराज थे. जिन्हें हटाने के लिए कई दिनों तक चीनी सैनिकों ने झंडा लहराकर विरोध जताया. हालांकि भारतीय जवानों की अनदेखी के बाद चीनी सैनिक खामोश होने को मजबूर हो गए थे. लेकिन लद्दाख की घटना के बाद ड्रैगन पर भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को रत्ती भर भी भरोसा नही है. चीन से सटे तीनों जिलों के बॉर्डर इलाकों में आईटीबीपी के साथ सेना के जवान भी पूरी तरह अलर्ट मोड पर हैं.



चप्पे-चप्पे पर ITBP के जवानों की निगाह
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इन इलाकों में निगरानी तेज कर दी गई है. चीन से लगे पूरे बॉर्डर पर फ्रंटलाइन में आईटीबीपी के जवान चप्पे-चप्पे पर निगाह जमाए हुए हैं. जबकि उनके बाद भारतीय सेना के जवानों ने भी मोर्चा संभाला है. लिपुलेख सड़क के उद्घाटन के बाद नेपाल ने पूरी तरह भारत विरोधी रुख अख्तियार किया हुआ है. ये माना जा रहा है कि नेपाल ड्रैगन के इशारों पर सड़क निर्माण का विरोध कर रहा है. पड़ोसी मुल्कों की इन हरकतों को देखते हुए सरहदों पर भारतीय सुरक्षा तंत्र ने खुद को किसी भी हालात का सामना करने के लिए तैयार किया हुआ है.



इन्हें भी पढ़ें :

लिपुलेख लेख महत्वपूर्ण उपलब्धि, नेपाल से गलतफ़हमी मिल-बैठकर हल कर लेंगेःराजनाथ

महीनों से एक साइन के लिए चक्कर काट रही थी बुजुर्ग महिला, अधिकारी ने फाइल फाड़ी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading