Home /News /uttarakhand /

Uttarakhand Polls: जिस जिले से हरीश रावत के लड़ने की है चर्चा, वहां 3 सीटों पर महिला वोटर क्यों हैं खास?

Uttarakhand Polls: जिस जिले से हरीश रावत के लड़ने की है चर्चा, वहां 3 सीटों पर महिला वोटर क्यों हैं खास?

उत्तराखंड चुनाव में महिला वोटरों का रुझान महत्वपूर्ण है.

उत्तराखंड चुनाव में महिला वोटरों का रुझान महत्वपूर्ण है.

Uttarakhand Assembly Election : पिथौरागढ़ ज़िले में ऐसी तीन विधानसभा सीटें हैं, जहां हार-जीत का फैसला महिला वोटर्स के हाथ में हो सकता है. ज़िला निर्वाचन अधिकारी (Election Officer) आशीष चौहान की मानें तो बीते चुनावों (Uttarakhand Election 2017) में पुरुषों के मुकाबले महिला मतदाताओं ने ज्यादा हिस्सेदारी की थी. ऐसे में, महिला मतदाताओं की भूमिका अधिक निर्णायक साबित हो सकती है. पहाड़ की महिलाओं (Uttarakhand Women) में राजनीतिक चेतना भी मौजूद है. यही वजह है कि कई सामाजिक आंदोलनों में उनकी सक्रिय हिस्सेदारी भी नज़र आती है. जानिए क्या है ज़मीनी गणित और सियासी पार्टियों (Political Parties' Strategy) के समीकरण.

अधिक पढ़ें ...

पिथौरागढ़. आचार संहिता के लागू हो जाने के बाद उत्तराखंड चुनाव के मद्देनज़र जब राजनीतिक पार्टियां मैनिफेस्टो और उम्मीदवारों की लिस्ट फाइनल करने की अंतिम तैयारियां कर रही हैं, तब विधानसभा सीटों पर वोटरों के गणित अहम माने जा रहे हैं. बॉर्डर ज़िले पिथौरागढ़ में चार विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से तीन ऐसी हैं जहां महिला वोटर्स अहम रोल अदा कर सकती हैं. इन तीनों विधानसभाओं में पुरुषों के मुकाबले महिला वोटरों की संख्या ज्यादा है. ऐसे में तय है कि जिस पार्टी की ओर महिलाओं का रुझान बढ़ेगा, जीत का सेहरा भी उसी के सिर सजेगा.

पिथौरागढ़ विधानसभा सीट पर कुल 1 लाख 9 हजार 171 मतदाता हैं, जिनमें पुरुषों की संख्या जहां 54,068 है, वहीं महिलाओं वोटर्स की तादात 55,103 है. धारचूला सीट पर कुल मतदाता 87,481 हैं. इनमें 43,581 पुरुष वोटर हैं, तो 43,900 महिलाएं. डीडीहाट विधानसभा में पुरुषों के मुकाबले महिला वोटर्स सबसे अधिक हैं. 82,741 मतदाताओं वाली डीडीहाट सीट पर पुरुष मतदाता 40,600 हैं तो, महिलाओं की संख्या यहां 42,141 हैं. पिथौरागढ़ ज़िले में गंगोलीहाट ही ऐसी विधानसभा है, जहां महिलाओं के मुकाबले पुरुष मतदाताओं की संख्या अधिक है.

इन आंकड़ों के चलते ही महिलाएं अब ज्यादा राजनीतिक हिस्सेदारी की भी मांग कर रही हैं. ज़िला पंचायत की अध्यक्ष दीपिका बोरा कहती हैं, ‘अब वक्त आ गया है कि महिलाओं को उनकी संख्या के बराबर राजनीति में हिस्सेदारी दी जाए.’ इधर, मौजूदा स्थिति पर नज़र डालें तो फ़िलहाल ज़िले में 2 महिला विधायक हैं. अब देखना ये है कि 2022 के चुनावी रण में बीजेपी और कांग्रेस जैसी मुख्य पार्टियां महिला उम्मीदवारों पर कितना भरोसा जताती हैं.

डीडीहाट से हरीश रावत की चर्चा
इस सीट पर 25 सालों से बीजेपी का कब्ज़ा रहा है और बिशन सिंह चुफाल यहां से अजेय रहे हैं. कांग्रेस की समस्या यहां यह है कि धड़ेबाज़ी बहुत है. इन दोनों स्थितियों से निपटने के लिए हरीश रावत को कांग्रेस यहां से चुनाव लड़वाने के बारे में विचार कर रही है. बताते हैं कि रावत के पक्ष में प्रस्ताव बनाने के लिए आज मंगलवार को पिथौरागढ़ में सभी दावेदार बैठक कर बड़ी रणनीति बना सकते हैं. रावत यहां से लड़े तो चुनाव में डीडीहाट हॉट सीट बन जाएगी.

Tags: Assembly elections, Pithoragarh district, Uttarakhand Assembly Election

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर