Home /News /uttarakhand /

गौरेया चिड़िया को बचाने की हो रही है कोशिश

गौरेया चिड़िया को बचाने की हो रही है कोशिश

    उत्तराखंड विलुप्त होने के कगार पहुंची गौरैया को बचाने की मुहिम शुरू हो गई है.

    गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के जीव एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग ने पांच दिवसीय विशेष अभियान छेड़ा है. अभियान तीन चरणों में चलेगा. इस अभियान में गौरेया की आबादी को बढ़ाने के लिए आम लोगों को प्रेरित किया जाएगा.

    प्रथम चरण के उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि मेलाधिकारी एसए मुरूगेशन ने कहा कि पर्यावरणीय संतुलन के लिए मानव जीवन के साथ-साथ अन्य जीवों के संरक्षणभी होना जरूरी है. अंतर्राष्ट्रीय पक्षी वैज्ञानिक एवं अभियान के संयोजक प्रोफेसर दिनेश भट्ट ने कहा कि गौरैया मानवी जीवन के करीब है.

    उसकी संख्या में गिरावट भविष्य के लिए शुभ संकेत नहीं है. पक्षी वैज्ञानिक डॉ. विनय सेठी ने कहा कि गौरैया को कृत्रिम लकड़ी घर बनाकर आकर्षित किया जा सकता है. इसके प्रयास हो रहे हैं. कुलपति डॉ. सुरेंद्र कुमार ने अभियान की सफलता की कामना की.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर