COVID-19: 55 साल से अधिक उम्र वाले पुलिसकर्मियों को फील्ड ड्यूटी से मिली राहत
Dehradun News in Hindi

COVID-19: 55 साल से अधिक उम्र वाले पुलिसकर्मियों को फील्ड ड्यूटी से मिली राहत
उम्र दराज पुलिस कर्मियों में ज्‍यादा है कोरोना वायरस का खतरा.

एडवाइजरी जारी होने के बाद उत्तराखंड पुलिस मुख्यालय ने ऐसे 384 पुलिसकर्मियों की लिस्ट तैयार की है, जिनकी उम्र 55 वर्ष से अधिक है.

  • Share this:
 

देहरादून. उत्तराखंड (Uttarkhand) में अब 55 साल से अधिक उम्र वाले पुलिस कर्मियों (Police Persons) को बड़ी राहत मिली है. अब कोई भी 55 साल की उम्र वाला पुलिसकर्मी फील्‍ड में ड्यूटी (Field Duty) नहीं करेगा. इन सभी पुलिस कर्मियों से केवल ऑफिसों में ही सेवायें ली जाएंगी.

दरअसल, मना जा रहा है कि कोरोना वायरस का खतरा सबसे ज्यादा बच्चों और बुजुर्गों पर ही हो रहा है. जिसको ध्‍यान में रखते हुए उत्तराखंड पुलिस (Uttarakhand Police) ने सभी जिलों के एसपी और एसएसपी को एक एडवाइजरी जारी की है. जिसमे ये कहा गया है कि मौजूदा हालत में 55 वर्ष से अधिक उम्र वाले पुलिस कर्मियों की फील्‍ड में तैनाती खतरनाक साबित हो सकती है. लिहाजा, इन पुलिस कर्मियों को फ्रंट ड्यूटी में न लगाया जाय.



384 पुलिस कर्मियों को सौंपा जा रहा है डेस्‍क जॉब



वहीं, एडवाइजरी जारी होने के बाद उत्तराखंड पुलिस मुख्यालय ने ऐसे 384 पुलिसकर्मियों की लिस्ट तैयार की है, जिनकी उम्र 55 वर्ष से अधिक है. वर्तमान समय में इन सभी की तैनाती फील्ड ड्यूटी पर हैं. मुख्यालय के निर्णय के अनुसार, 55 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पुलिसकर्मी डेस्‍क जॉब सौंपा जा रहा है. उल्‍लेखनीय है कि अधिक आयु के लोगों में कोरोना संक्रमण के ज़्यादा ख़तरे को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है.

ड्यूटी पर तैनात हैं उत्‍तराखंड पुलिस के 27 हजार जवान
आपको बता दें कि राज्य में करीब 27 हजार पुलिस के जवान है, जो महामारी के दौरान 24 घंटे जनता की सेवाओं में लगे हैं. ये जवान कोरोना महामारी के दौरान फर्स्ट लाइन में खड़े हैं, जो कोरोना महामारी में जनता को हर प्रकार की सहायता कर रहें हैं. अब इन जवानों में से 55 साल से अधिक वाले पुलिस कर्मी केवल ऑफिशियल ड्यूटी पर तैनात रहेंगे.

55 वर्ष से अधिक उम्र वालों की मृत्यु दर भी है ज्‍यादा
डीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार ने बताया कि 55 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों की इम्यूनिटी कम होने से कोरोना संक्रमण का खतरा ज्‍यादा होता है. साथ ही, 55 वर्ष से अधिक वाले लोगों की मृत्यु दर भी ज्‍यादा है. जिसके चलते ये फैसला लिया गया है. उल्‍लेखनीय है कि पुलिस विभाग में पहले से ही जवानो की कमी चल रही है. इस कमी को ध्‍यान में रखते हुए वीआई सुरक्षा में लगे जवानों को हाल में वापस बुला लिया गया था. जिसके बाद, अब 55 साल से अधिक उम्र वाले पुलिस कर्मियों को राहत दी जा रही है.

 

यह भी पढ़ें: 

रुद्रप्रयाग: किसानों को रुला गईं आंखों की सुकून देने वाली ये तस्‍वीरें

पत्‍नी को गोली मारने के बाद पति ने खुद की कनपटी पर रिवाल्‍वर रख दबाया ट्रिगर और फिर..
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading