AICC सदस्य सुमंत तिवारी ने रुद्रप्रयाग ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट को कहा मूर्ख, बिष्ट ने तिवारी को बताया विश्वासघाती
Rudraprayag News in Hindi

AICC सदस्य सुमंत तिवारी ने रुद्रप्रयाग ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट को कहा मूर्ख, बिष्ट ने तिवारी को बताया विश्वासघाती
रुद्रप्रयाग में कांग्रेस के ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट और ज़िला पंचायत उपाध्यक्ष बने एआईसीसी सदस्य सुमंत तिवारी भिड़ गए हैं.

एआईसीसी सदस्य सुमन्त तिवारी (Sumant tiwari) निर्दलीय ज़िला पंचायत उपाध्यक्ष बने हैं. कांग्रेस के ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट (ishwar bisht) का दावा है कि वह भाजपा के समर्थन से यह पद जीते हैं.

  • Share this:
रुद्रप्रयाग. ज़िला कांग्रेस (Rudraprayag Congress) में घमासान शुरु हो गया है. घमासान भी ऐसा कि इसकी गूंज दूर तक पहुंचेगी और देर तक याद रहेगी. कांग्रेस के एआईसीसी सदस्य सुमन्त तिवारी (Congress AICC Member Sumant Tiwari) ने ज़िला कांग्रेस अध्यक्ष को मूर्ख करार दिया है तो ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट (District president Ishwar Bisht) उन्हें डूब मरने की सलाह दे रहे हैं. मामला ज़िला पंचायत चुनावों से जुड़ा हुआ है और इसी को लेकर कांग्रेस के नेता एक-दूसरे को जैसी बातें कह रहे हैं उससे चाहे जो हो पार्टी का भला तो नहीं होने वाला.

निष्कासन का अधिकार

मामला यह है कि एआईसीसी सदस्य सुमन्त तिवारी निर्दलीय ज़िला पंचायत उपाध्यक्ष बने हैं. कांग्रेस के ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट का दावा है कि वह भाजपा के समर्थन से यह पद जीते हैं. इसी आरोप में ज़िलाध्यक्ष बिष्ट ने उन्हें कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया है.



सुमन्त तिवारी ने ज़िलाध्यक्ष के इस फ़ैसले को ही चुनौती दी है. उन्होंने कहा कि वह एआईसीसी (ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी) सदस्य हैं और ज़िलाध्यक्ष के पास उन्हें कांग्रेस से हटाने का अधिकार ही नहीं है. सुमंत तिवारी ने तो यहां तक कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को भी उन्हें हटाने का अधिकार नहीं है.
तिवारी ने ऐसी बयानबाज़ी करने के लिए ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट को मूर्ख करार दिया. उन्होंने यह भी कहा कि वह कांग्रेस से जुड़े हुए हैं पार्टी का हित चाहते हैं.

डूब मरें ऐसे विश्वासघाती 

कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष ईश्वर बिष्ट ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. बिष्ट ने सुमन्त तिवारी को विश्वासघाती बताते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी के लिए कभी काम नहीं किया. बिष्ट ने पूछा कि तिवारी ने विधानसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव और पंचायत चुनाव में पार्टी के लिए क्या किया?

बिष्ट ने यह भी कहा कि सुमंत तिवारी को बताना चाहिए कि वह ज़िला पंचायत उपाध्यक्ष कैसे बने और कांग्रेस का ज़िला पंचायत अध्यक्ष क्यों नहीं बना? बिष्ट ने कहा कि पार्टी के साथ विश्वासघात करके खुद को पार्टी का हितैषी बताने वाले तिवारी जैसे लोगों को डूब मरना चाहिए.

ये भी देखें: 

उत्तराखंड: कांग्रेस का दावा- 2022 में हम ही आएंगे, बीजेपी बोली- फिर करेंगे सूपड़ा साफ 

यूपी का फॉर्मूला चला तो 10 सदस्य भी नहीं रहेंगे उत्तराखंड में प्रदेश कांग्रेस कमेटी में! 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading