Home /News /uttarakhand /

big landslide on kedarnath badrinath road char dham yatri may know other routes here

केदारनाथ-बद्रीनाथ रोड लैंडस्लाइड से बंद, अब इस रूट से करें Char Dham Yatra, इधर ऋषिकेश-गंगोत्री रूट भी खतरनाक!

केदारनाथ से बद्रीनाथ के एक रास्ते पर भयानक भूस्खलन की तस्वीर.

केदारनाथ से बद्रीनाथ के एक रास्ते पर भयानक भूस्खलन की तस्वीर.

Char Dham Yatra Landslide : चार धाम यात्रा शुरू हुए दस दिन पूरे हो रहे हैं और धामों में भारी भीड़ के चलते अव्यवस्थाओं समेत यात्रा मार्गों के बदहाल होने की खबरें लगातार बनी हुई हैं. इस बीच आज गुरुवार को एक रास्ते पर भयानक भूस्खलन की तस्वीर सामने आई तो चिंता बढ़ गई.

अधिक पढ़ें ...

रुद्रप्रयाग/टिहरी. चारधाम यात्रियों के लिए बड़ी मुसीबत तब आई जब केदारनाथ से सीधे बद्रीनाथ जाने के लिए वैकल्पिक रूट चोपता-उखीमठ-मंडल गोपेश्वर मोटरमार्ग पर संसारी ऊखीमठ के बीच भारी भूस्खलन हुआ. दुर्घटना और रास्ते की हालत देख प्रशासन ने आवागमन बंद करवा दिया. दो दिन पहले इसी रास्ते पर दरारें थीं और गुरुवार 12 मई को यहां भूस्खलन हुआ, जिसमें एक पूरी चट्टान नीचे भरभराकर गिर पड़ी. इधर टिहरी से भी खबर है कि ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे की हालत भी खतरनाक बनी हुई है.

पहाड़ी टूटने की तस्वीरें जो सामने आईं, उनमें चट्टान टूटने का डरावना दृश्य दिखाई दिया. इस घटना के समय कुछ यात्रियों ने वीडियो भी बना लिये. यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण खबर ये है कि यह वै​कल्पिक मार्ग बंद होने के बाद अब किस रूट का इस्तेमाल करें… कुंड से बद्रीनाथ या चोपता जाने के लिए रुद्रप्रयाग-कर्णप्रयाग-चमोली या फिर भीरी मक्कू वैकल्पिक मार्ग का उपयोग भी यात्री कर सकते हैं.

खतरनाक हैं ऋषिकेश गंगोत्री हाईवे पर नये स्लाइडिंग जोन
टिहरी संवाददाता सौरभ सिंह की रिपोर्ट के मुताबिक एनएच 94 ऋषिकेश–गंगोत्री हाईवे पर रमोल गांव के पास बने स्लाइडिंग ज़ोन का अभी तक ट्रीटमेंट नहीं होने से घंटों जाम लग रहा है और यात्री जान जोखिम में डालकर यात्रा करने पर मजबूर हैं. ऑल वेदर प्रोजेक्ट के तहत हाईवे का चौड़ीकरण किया गया लेकिन कंपनी की लापरवाही और बेतरतीब तरीके से पहाड़ी कटान के चलते नए स्लाइडिंग जोन बन गए. अब यहां घंटों जाम के साथ ही दुर्घटना का खतरा तो अलग, लगातार मलबा और बोल्डर गिर रहे हैं.

चारधाम यात्रा शुरू होने से पहले ज़िला प्रशासन ने बीआरओ के साथ मिलकर नए स्लाइडिंग जोन चिह्नित किए थे, लेकिन अब भी कई जगहों पर ट्रीटमेंट नहीं हो पाया है. वहीं बारिश से खतरा और बढ़ गया है. चंबा गंगोत्री हाईवे के लिए कोई वैकल्पिक रूट भी नहीं होने से परेशानी ​और चिंता ज़्यादा है. दूर दराज से आने वाले यात्रियों कह रहे हैं कि ऑल वेदर प्रोजेक्ट का काम समय से नहीं होने का नतीजा यह है कि एक घंटे की दूरी चार घंटे में तय हो रही है.

इस बारे में डीएम इवा आशीष श्रीवास्तव का कहना है कि बारिश के चलते ट्रीटमेंट काम में दिक्कतें आ रही हैं, लेकिन जल्द ट्रीटमेंट कार्य पूरा कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा का भी ध्यान रखा जा रहा है.

Tags: Char Dham Yatra, Uttarakhand landslide

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर