Home /News /uttarakhand /

char dham yatra daily cap failed as three times devotees reach kedarnath on portals opening day

Char Dham Yatra: केदारनाथ में रिकॉर्डतोड़ भीड़, क्षमता 10,000 डेली लिमिट 12,000... पहुंचे तीन गुना श्रद्धालु

Kedarnath Yatra : कोरोना काल के प्रतिबंधों के बाद इस बार बगैर किसी अनिवार्य शर्तों के शुरू हुई चार धाम यात्रा में भारी जनसैलाब उमड़ने के जो कयास थे, वो केदारनाथ यात्रा के पहले दिन ही सही साबित हुए. सीएम पुष्कर धामी के बयान के बाद अब पुलिस और प्रशासन के सामने चुनौती विकराल हो गई है. देखिए पूरी रिपोर्ट.

अधिक पढ़ें ...

रुद्रप्रयाग. 6 मई की सुबह 6.15 बजे केदारनाथ के कपाट खुले, तो श्रद्धालुओं का अपार हुजूम दिखाई दिया. चार धाम यात्रा शुरू होने से पहले उत्तराखंड सरकार ने चारों धामों में दर्शना​र्थियों के लिए लिमिट तय की थी, लेकिन केदारनाथ में ऐसा कोई नियम लागू होता नहीं दिखा. शुक्रवार को कपाट खुलने से पहले ही गुरुवार रात तक धाम में तय लिमिट 12,000 यात्री से करीब दोगुने पहुंच चुके थे. इतनी भीड़ का नतीजा यह है कि धाम और आसपास के क्षेत्रों में अफरातफरी मची हुई है और रहने की जगह व खाने की मुश्किलें पेश आ रही हैं.

उत्तराखंड सरकार ने 29 अप्रैल को हर धाम के लिए डेली लिमिट तय की थी, लेकिन 3 मई को चार धाम यात्रा की शुरुआत के मौके पर गंगोत्री में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मीडिया से कहा था, ‘ऐसी कोई लिमिट तय नहीं की गई, श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए आगे इस पर कोई फैसला होगा.’ मुख्यमंत्री के इस बयान का असर कहा जाए तो नज़ारा यह दिखा कि शुक्रवार सुबह कम से कम 35,000 लोग धाम में नज़र आए. ज़ाहिर है कि यह संख्या आज शाम तक और बढ़ेगी.

अफरातफरी, अव्यवस्थाएं और ज़्यादा दाम
न्यूज़18 ने आपको पहले भी बताया था कि केदारनाथ धाम में 8000 लोगों के रुकने की ही व्यवस्था है और इसके अलावा, अस्थायी टेंट भी लगाए गए हैं. इसके बावजूद भीड़ का आलम यह है कि गौरीकुंड से गुरुवार को हज़ारों की तादाद में श्रद्धालु केदार धाम की तरफ बढ़े. खबरों की मानें तो इन्हें रास्ते में रोके जाने की नौबत तक आई, लेकिन गुरुवार रात तक ही करीब 20,000 लोग धाम पहुंच चुके थे.

ये भी पढ़ें : Char Dham Yatra: श्रद्धालुओं की डेली लिमिट है कि नहीं? CM धामी और पर्यटन मंत्री के बयानों से असमंजस

हाल यह है कि केदारनाथ धाम और उसके आसपास होटलों व धर्मशालाओं आदि सभी स्थानों को मिलाकर बमुश्किल 10,000 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है. ऐसे में यहां कमरों का किराया 10 से 12 हज़ार रुपये प्रतिदिन पहुंच गया है. वहीं, टेंट की अस्थायी व्यवस्था भी नाकाफी साबित हो रही है. रहने के साथ ही हज़ारों लोगों के लिए भोजन जुटा पाना भी बड़ी चुनौती बन गया है.

कैस होंगे इंतज़ाम और क्या हैं बयान?
बाबा केदारनाथ धाम मे हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने पर बद्री-केदार मन्दिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने न्यूज़18 से बातचीत के दौरान बताया कि व्यवस्थाओं में जो भी कमी है, उसको अधिकारियों के साथ मिलकर दूर किया जाएगा. इस दौरान ताज़ा अपडेट यह है कि आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि ने भी धाम पहुंचकर बाबा के दर्शन किए.

Tags: Char Dham Yatra, Kedarnath Dham

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर