केदारघाटी में मिले Snow Leopard की मौजूदगी के निशान, वन विभाग कैमरे से रखेगा नजर

संरक्षित वन्य जीव हिम तेंदुआ की मौजूद के निशान मिले है.

संरक्षित वन्य जीव हिम तेंदुआ की मौजूद के निशान मिले है.

मध्यमेश्वर और रुद्रनाथ क्षेत्र में बर्फ में 6 पद चिह्न मिले हैं. प्रारंभिक तौर पर यह हिम तेंदुए (Snow Leopard) के माने जा रहे है, हालांकि इसकी पुष्टि भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा ही की जाएगी.

  • Share this:
रुद्रप्रयाग. उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग (Rudraprayag) जिले के केदारघाटी में हिम तेंदुओं की मौजूदगी के निशान मिलने शुरू हो गए है. केदारनाथ वन प्रभाग के तुंगनाथ, मध्यमेश्वर और रुद्रनाथ क्षेत्र में बर्फ में 6 पद चिह्न मिले हैं. प्रारंभिक तौर पर यह हिम तेंदुए (Snow Leopard) के माने जा रहे है, हालांकि इसकी पुष्टि भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा ही की जाएगी. वन विभाग की टीम ने पद चिह्न जांच के लिए भेज दिए है. इस बात की संभावना अधिक है कि इस क्षेत्र में संरक्षित वन्य जीव हिम तेंदुआ मौजूद है.

पहली बार वन विभाग उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जनपद के अंतर्गत केदारनाथ वन प्रभाग के उच्च हिमालयी क्षेत्र में रहने वाले वाले संरक्षित प्रजाति के वन्य जीवों को ट्रेस कर आकंड़े जुटा रहा है क्योंकि इन जीवों की संख्या का वास्तविक आंकड़ा वन विभाग के पास नहीं है. इसके लिए वन विभाग की पांच टीमें तुंगनाथ, मध्यमेश्वर सहित उच्च हिमालयी क्षेत्रों में इन दिनों रेकी कर संरक्षित वन्य जीवों के पद चिह्नों की जांच कर रही है. इसके बाद उस क्षेत्र में कैमरे लगाकर उनकी गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी.

ये भी पढ़ें: आजमगढ़: प्रेमी ने दोस्तों को लाइव दिखाया गर्लफ्रेंड का गैंगरेप, वीडियो भी किया वायरल

पद चिह्नों की होगी जांच
केदारनाथ वन प्रभाग के उप वन संरक्षक अमित कंवर बताते है कि केदारनाथ वन प्रभाग के तहत तुंगनाथ, मध्यमेश्वर और रुद्रनाथ क्षेत्र में हिम तेंदुआ कस्तूरी मृग, काला भालू आदि संरक्षित प्रजाति के वन्य जीवों की मौजूदगी है. यह वन्य जीव आमतौर पर 14 हजार फीट की ऊंचाई में बर्फीले क्षेत्र में रहते है. तुंगनाथ, मध्यमेश्वर व रुद्रनाथ क्षेत्र में मिले छह पद चिह्न प्रारंभिक तौर पर हिम तेंदुए के लग रहे हैं, लेकिन इसकी पुष्टि भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा ही की जाएगी, पद चिह्न जांच के लिए भेज दिए गए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज