आज से केदारनाथ की यात्रा शुरू, 30 जून तक सिर्फ इन्हें अनुमति, गर्भ गृह में किसी को प्रवेश नहीं

मंगलवार को देवस्थानम बोर्ड के फ़ैसले के बाद केदारनाथ धाम की यात्रा खोल दी गई है.
मंगलवार को देवस्थानम बोर्ड के फ़ैसले के बाद केदारनाथ धाम की यात्रा खोल दी गई है.

रुद्रप्रयाग की ज़िलाधिकारी वंदना सिंह का कहना है कि पहले चरण में दर्शन करने के लिए सीमित संख्या में ही पास जारी किए जाएंगे. सोनप्रयाग में तहसीलदार को तैनात किया गया है जहां पास के लिए आवेदन किया जा सकेगा.

  • Share this:
रुद्रप्रयाग. मंगलवार को देवस्थानम बोर्ड के फ़ैसले के बाद केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) की यात्रा खोल दी गई है. पहले चरण में 30 जून तक सिर्फ़ स्थानीय निवासियों यानी रुद्रप्रयाग ज़िले के लोगों के लिए ही यह यात्रा खोली गई है. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM TS Rawat) ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को भी बताया था कि शुरुआत में एक दिन में 800 लोगों को ही दर्शन करने की अनुमति दी जाएगी. आज से सोनप्रयाग में प्रशासन के पास जारी करने के बाद रुद्रप्रयाग के निवासी बाबा केदार के दर्शन को जा सकेंगे. ऊखीमठ के एसडीएम केदारनाथ जाने वाले श्रद्धालु को पास जारी करेंगे. इसके लिए सोनप्रयाग में तहसीलदार को तैनात किया गया है जहां पास के लिए आवेदन किया जा सकेगा.

सिर्फ़ इन्हें मिलेंगे पास 

रुद्रप्रयाग की ज़िलाधिकारी वंदना सिंह का कहना है कि पहले चरण में दर्शन करने के लिए सीमित संख्या में ही पास जारी किए जाएंगे. केवल उन्हीं लोगों को पास जारी किए जाएंगे, जिनके केदारनाथ धाम में होटल, रेस्टोरेंट, दुकानें या अन्य परिसम्पत्तियां हैं. इनके अलावा केदारनाथ के हक-हकूक धारी, तीर्थ-पुरोहित समाज, केदारनाथ पुनर्निर्माण में लगे कर्मचारियों के लिए को पहले चरण में पास जारी होंगे.



गर्भ गृह में प्रवेश नहीं
रुद्रप्रयाग की डीएम वंदना सिंह ने बताया कि केदारनाथ धाम जाने वाले श्रद्धालु अगले आदेश तक मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश नहीं कर सकेंगे. मंदिर समिति द्वारा गर्भ गृह के बाहर निर्धारित स्थान से ही अंदर झांककर ज्योतिर्लिंग के दर्शन कर पाएंगे. डीएम के अनुसार केदारनाथ जाने वाले लोगों को अपना आधार और यात्रा का प्रयोजन बताया होगा. कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए 60 साल से अधिक और 10 वर्ष के कम आयु वाले, गर्भवती महिलाएं, गंभीर बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों और बाहरी प्रदेश से आकर क्वारंटाइन की अवधि पूरी न करने वाले लोगों को केदारनाथ जाने की अनुमति नहीं होगी.

ये भी देखें:
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज