Home /News /uttarakhand /

16 से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, पितरों का करें श्राद्ध

16 से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, पितरों का करें श्राद्ध

Photo: News18

Photo: News18

पितरों को समर्पित पितृ पक्ष इस बार 16 सितम्बर से शुरू हो रहा है. पितृ पक्ष में तर्पण करने से पितृ प्रसन्न होते हैं. श्राद्ध पक्ष 29 सितम्बर तक चलेगा. विद्वानों के अनुसार श्राद्ध करने के लिए उपयुक्त समय अपराह्न 11 बजकर 45 से लेकर 12 बजकर 45 मिनट तक होता है. इस वर्ष पूर्णिमा का श्राद्ध 16 सितंबर को जबकि प्रतिपदा का श्राद्ध 17 सितंबर को होगा. तृतीया एवं चतुर्थ तिथि का श्राद्ध एक साथ 19 सितंबर को है.

अधिक पढ़ें ...
    पितरों को समर्पित पितृ पक्ष इस बार 16 सितम्बर से शुरू हो रहा है. पितृ पक्ष में तर्पण करने से पितृ प्रसन्न होते हैं. श्राद्ध पक्ष 29 सितम्बर तक चलेगा. विद्वानों के अनुसार श्राद्ध करने के लिए उपयुक्त समय अपराह्न 11 बजकर 45 से लेकर 12 बजकर 45 मिनट तक होता है. इस वर्ष पूर्णिमा का श्राद्ध 16 सितंबर को जबकि प्रतिपदा का श्राद्ध 17 सितंबर को होगा. तृतीया एवं चतुर्थ तिथि का श्राद्ध एक साथ 19 सितंबर को है.

    श्री शिव शक्ति ज्योतिष केंद्र रुड़की के संचालक पंडित रमेश सेमवाल का कहना है कि श्रद्धापूर्वक किएजाने वाले कर्म को श्राद्ध कहते हैं. सनातन धर्म में श्राद्ध का बहुत अधिक महत्व है. पितरों की संतुष्टि के उद्देश्य से जो उनके प्रिय भोज्य पदार्थ ब्राह्माणों को श्रद्धापूर्वक प्रदान किए जाते हैं, उस अनुष्ठान का नाम श्राद्ध होता है.

    वहीं कात्यायन स्मृति के अनुसार पितृ कर्म का ही दूसरा नाम श्राद्ध है. पंडित सेमवाल के मुताबिक भारतीय संस्कृति में तीन प्रकार के ऋण का वर्णन है. इनमें देव ऋण, ऋषि ऋण और पितर ऋण शामिल हैं. पितरों को मुक्ति प्रदान करने के लिए श्राद्ध किए जाते हैं.

    श्राद्ध कर्म से सूक्ष्म जीव को तृप्ति मिलती है, इसलिए श्राद्ध कार्य किया जाता है. श्राद्धों के दिन सात्विक प्रवृत्ति का भोजन शुद्ध बनाकर खिलाएं. कौवे, गाय और कुत्ते को रोटी दें. सारे पितर कार्य दक्षिण में करें.

    यदि कोई आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण को भोजन कराने में सक्षम नहीं है तो वह किसी जलाशय पर जाकर कमर तक पानी में खड़ा होकर अंजुलि में जौ, तिल एवं दूध लेकर तर्पण कर सकता है. इससे भी पितर प्रसन्न होते हैं. श्राद्ध पक्ष का हिन्दू धर्म में अहम स्थान है.

    Tags: Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर