कूड़े को अलग-अलग कर रुद्रप्रयाग के लोगों ने जीते लाखों के इनाम... आगे भी है मौका

सोर्स सेग्रिगेशन सप्ताह में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 40 आम लोगों के साथ ही अधिकारियों, पर्यावरण मित्रों और स्वच्छकों को पुरस्कृत किया गया.

Shelendra Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: August 1, 2019, 6:22 PM IST
कूड़े को अलग-अलग कर रुद्रप्रयाग के लोगों ने जीते लाखों के इनाम... आगे भी है मौका
प्रशासन की इनामी योजनाओं की बदौलत रुद्रप्रयाग के सभी स्थानीय निकायों में लोगों ने कूड़े का पृथकीकरण या सेग्रिगेशन यानि अलग-अलग किस्म के कूड़े को अलग-अलग करना शुरु कर दिया है.
Shelendra Rawat
Shelendra Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: August 1, 2019, 6:22 PM IST
rudraprayag garbage segregation
उत्तराखंड की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है कूड़े का निस्तारण. राजधानी देहरादून से लेकर पहाड़ी ज़िलों-कस्बों तक कूड़े के निस्तारण की शासन-प्रशासन की कोशिशें लगातार औंधे मुंह गिरती रही हैं. ऐसे में रुद्रप्रयाग से एक अच्छी ख़बर आई है. प्रशासन की इनामी योजनाओं की बदौलत रुद्रप्रयाग के सभी स्थानीय निकायों में लोगों ने कूड़े का पृथकीकरण या सेग्रिगेशन यानि अलग-अलग किस्म के कूड़े को अलग-अलग करना शुरु कर दिया है. यह काम सबसे बेहतर करने वाले लोगों को आज ज़िलाधिकारी ने इनाम दिए जिनमें एलईडी टीवी, मोबाइल, म्यूज़िक सिस्टम जैसे पुरस्कार शामिल थे.


rudraprayag garbage segregation
रुद्रप्रयाग में 24 जून से 30 जून तक चार स्थानीय नगर क्षेत्रों रुद्रप्रयाग, तिलवाड़ा, अगस्त्यमुनि और ऊखीमठ में सोर्स सेग्रिगेशन सप्ताह का आयोजन कर लोगों को जागरुक किया गया था. इसमें अपने घरों और आस-पास की जगहों से जैविक और अजैविक कूड़े को अलग-अलग कर डोर-टू-डोर कूड़े का कलेक्शन करने वाले सफाईकर्मियों को देना था.


rudraprayag garbage segregation
दरअसल कूड़ा जेनरेशन की जगह पर ही उसे अलग-अलग कर देना आसान होता है बस इसके लिए इच्छाशक्ति चाहिए होती है. जैविक-अजैविक कूड़े को अलग-अलग इकट्ठा करने से उनका निस्तारण करना आसान होता है. जैविक कूड़े से कंपोस्ट खाद बनाई जाती है और अजैविक कूड़े को कॉम्पैक्ट करके बेचा जा सकता है.


rudraprayag garbage segregation
सोर्स सेग्रिगेशन सप्ताह में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 40 आम लोगों के साथ ही अधिकारियों, पर्यावरण मित्रों और स्वच्छकों को पुरस्कृत किया गया. इनके अलावा लक्की ड्रॉ भी निकाला गया.


rudraprayag garbage segregation
रुद्रप्रयाग के ज़िलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने पुरस्कार के रूप में चार 32 इंज के एलईडी टीवी, चार मोबाइल फ़ोन, पंखे, गीज़र समेत कई पुरस्कार वितरित किए. कूड़े के बदले पुरस्कार पाकर लोग काफी खुश थे. ज़िलाधिकारी ने कहा कि अब हर तीसरे महीने इसी तरह से लोगों को सम्मानित किया जाएगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रुद्रप्रयाग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 1, 2019, 6:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...