Home /News /uttarakhand /

टिहरी की 108 एंबुलेंस बोट सेवा : हम-तुम मरीज ले जा रहे हों... और बोट रुक जाए... सोचो कभी...

टिहरी की 108 एंबुलेंस बोट सेवा : हम-तुम मरीज ले जा रहे हों... और बोट रुक जाए... सोचो कभी...

127 गांवों के मरीजों के हित को ध्यान में रखते हुए इस सेवा को दुरुस्त किया जाना बेहद जरूरी है.

127 गांवों के मरीजों के हित को ध्यान में रखते हुए इस सेवा को दुरुस्त किया जाना बेहद जरूरी है.

Essential Services : 108 एंबुलेंस बोट सेवा से टिहरी झील के आसपास बने 127 गांवों के लोगों को लाभ हो रहा था. मरीजों को जिला अस्पताल या अन्य अस्पताल ले जाने के लिए 2011 में शुरू की गई एंबुलेंस बोट सेवा का लाभ शुरुआती दौर में सारे गांवों को मिला. पर अब मेंटेंनेंस के अभाव में यह एंबुलेंस बोट सेवा कई बार बीच झील में ही रुक जाती है. कभी ईंधन की कमी तो कभी तकनीकी समस्या के कारण एंबुलेंस बोट सेवा वक्त पर सही जगह पहुंच भी नहीं पाती.

अधिक पढ़ें ...

टिहरी गढ़वाल. टिहरी डैम की झील में चलने वाली 108 एंबुलेंस बोट सेवा फिलहाल शो-पीस बनकर रह गई है और झील से सटे 127 गांवों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है. बता दें कि 108 एंबुलेंस बोट सेवा की शुरुआत 2 दिसंबर 2011 में शुरू हुई थी. इसका लाभ 127 गांवों के मरीजों को मिल रहा था. लेकिन समय बीतने के साथ एंबुलेंस बोट सेवा की मेंटेंनेंस में लापरवाही बरती गई. नतीजा हुआ कि बोट में कई तकनीकी खामियां आ गई हैं.

लोग बताते हैं कि कई बार एंबुलेंस बोट सेवा टेक्निकल प्राब्लम के चलते या फ्यूल खत्म होने की वजह से बीच झील में खड़ी हो जाती है. ऐसी स्थिति में मरीज के साथ-साथ तीमारदार, कर्मचारियों की सांसें अटक जाती हैं. कई बार तो एंबुलेंस बोट सेवा समय पर नहीं पहुंच पाती है, जिससे मरीजों को खासी परेशानी होती है. स्थानीय लोगों का कहना है कि एंबुलेंस बोट सेवा सिर्फ शोपीस बनकर रह गई है और मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है.

इन्हें भी पढ़ें :
मोदी के केदारनाथ दौरे के बाद BJP-कांग्रेस में ‘जूता युद्ध’, हरीश रावत बहस में कूदे
वोटर लिस्ट से जुड़े काम अब फ्री होंगे, जानिए कौन से काम आप कैसे करवा सकते हैं

टिहरी झील से सटे गांवों के मरीजों को जिला अस्पताल या अन्य अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस बोट सेवा शुरू तो की गई, लेकिन इसका लाभ अब लोगों को नहीं मिल पा रहा है. टिहरी झील में संचालित 108 एबुंलेंस बोट सेवा में जरूरी इक्युपमेंट्स भी नहीं होने के चलते एबुलेंस बोट से मरीज को लाना खतरे से खाली नहीं होता है. जब इस बाबत सीएमओ से पूछा गया तो उनका कहना है कि वे इस संबध में जल्द 108 के अधिकारियों के साथ वार्ता करेंगे.

Tags: Ambulance Service, Tehri Lake, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर