Home /News /uttarakhand /

छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के बाद शहर कोतवाली बनी जंग का अखाड़ा

छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के बाद शहर कोतवाली बनी जंग का अखाड़ा

श्रीनगर गढ़वाल स्थित गढ़वाल विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शनिवार को शहर कोतवाली में जमकर बवाल हुआ.

श्रीनगर गढ़वाल स्थित गढ़वाल विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शनिवार को शहर कोतवाली में जमकर बवाल हुआ.

श्रीनगर गढ़वाल स्थित गढ़वाल विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शनिवार को शहर कोतवाली में जमकर बवाल हुआ.

श्रीनगर गढ़वाल स्थित गढ़वाल विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शनिवार को शहर कोतवाली में जमकर बवाल हुआ.

हमलावर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कोतवाली में धरना दे रहे छात्रों के साथ पुलिस की जमकर धक्का-मुक्की हुई. पुलिस द्वारा जैसे ही आरोपी छात्र की गिरफ्तारी पर हाईकोर्ट से स्टे की सूचना के बाद छात्रों को बलपूर्वक जाने के लिए कहा गया तो छात्र भड़क गए. इसके बाद पुलिस कर्मियों और छात्रों के बीच कोतवाली में धक्‍का-मुक्‍की होने लगी और पुलिस ने छात्रों को बाहर खदेड़ दिया. इसके बावजूद छात्र वापस कोतवाली में आ धमके.

हालांकि, गुस्साए पुलिस और छात्रों के बीच हुई धक्का-मुक्की को देखकर एक बार लगा कि लाठीचार्ज की नौबत आ सकती थी, लेकिन पुलिस के धैर्य के चलते आखिरकार ये टल गया. गुस्साये छात्र पुलिस द्वारा जबरन उन्हें कोतवाली से बाहर करने से और भी आक्रोशित हो गए थे.

तीन दिनों तक गढ़वाल विश्‍वविद्यालय की अंतरमहाविद्यालयी सांस्कृतिक एवं शैक्षणिक प्रतियोगिताओं के चलते व्यस्त रहे छात्र प्रतियोगिताओं के खत्म होते ही कोतवाली में आ धमके और धरने पर बैठ गए. छात्रों की एक ही मांग थी कि बिड़ला परिसर में छात्रसंघ अध्यक्ष पर हमले के आरोपी एबीवीपी छात्र को गिरफ्तार किया जाए.

जैसे ही पुलिस ने उन्हें सूचना दी कि आरोपी हमलावर छात्र ऋतांशु कंडारी ने गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट नैनीताल से स्थगन आदेश ले लिया है. वैसे ही गुस्साए छात्रों का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया. पुलिस के जवाब से बुरी तरह बौखलाए छात्रों ने पुलिस को ही इसके लिए जिम्मेदार बताया.

छात्रों की आपसी भिड़ंत में घायल होने के बाद आरोपी छात्र के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज करवाने वाले छात्रसंघ अध्यक्ष मनोज रावत और छात्र नेता पुष्पेन्द्र पंवार ने पुलिस पर जमकर भड़ास निकाली. दोनों ने पुलिस खासतौर पर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक उत्तम सिंह को निशाने पर लेते हुए कहा कि उनकी जानबूझकर बरती गई लापरवाही के कारण ही पुलिस ने आरोपी हमलावर छात्र को गिरफ्तार नहीं किया.

उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस का ज्यादा ध्यान आरोपी छात्र को बचाने पर लगा रहा. उनका कहना है कि एक सप्ताह से पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी क्यों नहीं कर सकी. उन्होंने सवाल उठाया कि आरोपी को आखिरकार कोर्ट जाकर स्टे ऑर्डर लेने का वक्त ही क्यों दिया गया.

दूसरी तरफ कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक उत्तम सिंह का कहना है कि विगत 20 फरवरी को हुई घटना के बाद मामले की जांच पूरे जिले में फिलहाल एकमात्र पुलिस उपाधीक्षक द्वारा की जा रही थी. उन्होंने कहा कि कल ही पुलिस उपाधीक्षक द्वारा आरोपी छात्र की गिरफ्तारी के आदेश दिए गए थे जिस पर छात्र के ठिकानों पर दबिश दी गई थी.

उन्होंने कहा कि पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने की पूरी कोशिश की लेकिन छात्रों को हाईकोर्ट से स्टे मिलने पर अब पुलिस गिरफ्तारी नहीं कर सकती. बहरहाल इस पूरे मामले से गुस्साए छात्र रातभर कोतवाली में डंटे रहे. पुलिस द्वारा आक्रोशित छात्रों से वार्ता की जाती रही लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकल सका.

Tags: Pauri Garhwal news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर