टिहरी के क्वारंटीन सेंटर की बदहाली की शिकायतें वायरल... खराब खाना, गंदे बाथरूम और हेल्थ चेकअप तक नहीं
Tehri-Garhwal News in Hindi

टिहरी के क्वारंटीन सेंटर की बदहाली की शिकायतें वायरल... खराब खाना, गंदे बाथरूम और हेल्थ चेकअप तक नहीं
कहा जा रहा है कि ऐसे भी कई लोग हैं जो 28 दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा कर चुके हैं लेकिन अभी भी उनका हेल्थ चेकअप नहीं किया गया है. इसकी वजह से वे यहीं फंसे हुए हैं.

उत्तराखंड में कोरोना से सबसे ज़्यादा प्रभावित ज़िला है टिहरी

  • Share this:
नई टिहरी. उत्तराखंड में प्रवासियों के आने का सिलसिला जारी है और इसकी वजह से कोरोना संक्रमण का खतरा भी लगातार बढ़ रहा है. प्रदेश में टिहरी ज़िले में संक्रमण की दर सबसे ज़्यादा है. रेड ज़ोन में आने वाले प्रवासियों को संस्थागत क्वारंटीन किया जा रहा है लेकिन इनमें लापरवाही की शिकायत आई है. संस्थागत क्वारंटीन किए गए लोगों ने प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया और कहा क्वारंटीन सेंटरों में खाने पीने की व्यवस्था नहीं है और हेल्थ चेकअप भी नहीं हो रहा है. टिहरी में अभी तक 32,000 से अधिक प्रवासी घर लौट चुके हैं जिनमें अभी तक 294 कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं. 213 लोग क्वारंटीन पीरियड पूरा कर और ठीक होकर घर चले गए हैं.

धमका रहे हैं कर्मचारी 

कोरोना पॉजिटिव लोगों को नर्सिंग कॉलेज सुरसिंगधार में कोरोना आइसोलेशन वार्ड में रखा जा रहा है. यहां 350 बेड की व्यवस्था की गई है लेकिन यहां क्वारंटीन किए गए लोगों ने गंभीर शिकायतें की हैं. इन क्वारंटीन सेंटर्स में रह रहे लोगों ने सोशल मीडिया पर बताया है कि यहां न तो खाने पीने की ठीक व्यवस्था है और न ही उनका हेल्थ चेकअप किया जा रहा है.



ऐसे भी कई लोग हैं जो 28 दिन का क्वारंटीन पीरियड पूरा कर चुके हैं लेकिन अभी भी उनका हेल्थ चेकअप नहीं किया गया है. इसकी वजह से वे यहीं फंसे हुए हैं और घर नहीं जा पा रहे हैं. खाने की क्वालिटी खराब है जिससे उनकी तबियत और बिगड़ सकती है.
सोशल मीडिया पर डाले गए मैसेज में यह भी कहा गया कि कोरोना आइसोलेशन सेंटर में स्वास्थ्य विभाग की टीम तो रखी गई है लेकिन वह कोरोना पॉजिटिव लोगों का चेकअप नहीं कर रही है. क्वारंटीन सेंटर्स में फंसे लोगों ने यह भी कहा है कि क्वारंटीन सेंटर के बाथरूम में सफ़ाई नहीं हो रही और इस बारे शिकायत करने पर ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी, अधिकारी उन्हें ही धमका रहे हैं. आखिरकार मजबूरी में सोशल मीडिया पर यह शेयर करना पड़ रहा है.

झूठ बोल रहे हैं प्रवासी 

इस बारे में बात करने पर सीएमओ डॉक्टर मीनू रावत दावा करती हैं कि का कहना है कि नर्सिंग कॉलेज कोरोना आइसोलेशन सेंटर में पर्याप्त व्यवस्थाएं है. जहां तक खाने की क्वालिटी की शिकायत आ रही है तो उसे सुधारा जा रहा है.

डॉक्टर रावत कहती हैं कि जो लोग हेल्थ टीम द्वारा चेकअप नहीं करने की बात कह रहे हैं वे सरासर झूठ बोल रहे हैं. मेडिकल टीम दिन में दो बार कोरोना पॉज़िटिव लोगों का हेल्थ चेकअप कर रही है. इसके लिए डॉक्टर, फार्मासिस्ट की ड्यूटी कोरोना सेंटर में लगाई गई है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई और कमी सामने आती है तो उसे तुरंत दूर किया जाएगा, शिकायत का समाधान किया जाएगा.

ये भी देखें: 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading