लाइव टीवी

किशोर उपाध्याय ने पूर्व सीएम पर कसा तंज, कहा 'सरकार ने नहीं किया कार्यकर्ता का सम्मान'
Tehri-Garhwal News in Hindi

Shailendra Singh | ETV UP/Uttarakhand
Updated: November 1, 2017, 3:51 PM IST
किशोर उपाध्याय ने पूर्व सीएम पर कसा तंज, कहा 'सरकार ने नहीं किया कार्यकर्ता का सम्मान'
पूर्व सीएम हरीश रावत और पूर्व पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय

एक बेहद पुरानी कहावत है- 'रस्सी जल गई पर बल नहीं गया'. इन दिनों ये कहावत उत्तराखंड के कांग्रेस नेताओं पर सटीक बैठती है. दरअसल पूर्व सीएम हरीश रावत और पूर्व पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय के मतभेद किसी से छुपे नहीं हैं.

  • Share this:
एक बेहद पुरानी कहावत है- 'रस्सी जल गई पर बल नहीं गया'. इन दिनों ये कहावत उत्तराखंड के कांग्रेस नेताओं पर सटीक बैठती है. कांग्रेस सत्ता से तो चली गई, लेकिन पार्टी के कद्दावर नेताओं की जुबानी जंग अभी भी जारी है.

दरअसल पूर्व सीएम हरीश रावत और पूर्व पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय के मतभेद किसी से छुपे नहीं हैं. हरीश रावत न अब प्रदेश के सीएम हैं और न ही किशोर उपाध्याय पीसीसी चीफ, लेकिन दोनों के बीच की तकरार अभी भी बरकरार है.

पूर्व पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय ने बिना नाम लिए पूर्व सीएम हरीश रावत पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार गिरने के दौरान कार्यकर्ता के कारण ही सरकार बची थी, लेकिन सरकार ने कार्यकर्ता का कोई सम्मान ही नहीं किया. उनके इस बयान को सीधे हरीश रावत से जोड़कर देखा जा रहा है.

गौरतलब है कि सरकार में रहते हुए इन दोनों नेताओं के विवाद कई दफा जनता के बीच तक आये. माना तो यह भी जाता है कि संगठन और सरकार के बीच सामंजस्य न होने के चलते ही कांग्रेस को उत्तराखंड में बुरी तरह से हार का सामना तक करना पड़ा था.

हालांकि इसके अलावा भी सूबे में कांग्रेस की हार की कई और वजहें भी तब सामने आई थी, लेकिन सरकार और संगठन के बीच कमजोर तालमेल भी हार की वजह रही इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टिहरी गढ़वाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2017, 3:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर