Lockdown: टिहरी के रिहायशी इलाकों में Leopard की दस्तक, वन विभाग ने बढ़ाई निगरानी

टिहरी के रिहायशी इलाकों में तेंदुए देखे जाने के बाद वन विभाग ने बढ़ाई गश्त
टिहरी के रिहायशी इलाकों में तेंदुए देखे जाने के बाद वन विभाग ने बढ़ाई गश्त

इस मामले में टिहरी वन रेंज के अधिकारी आशीष डिमरी का कहना है कि लॉकडाउन (Lockdown) के चलते सड़कें सुनसान होने से इन दिनों जंगली जानवर शहरों की तरफ आ रहा हैं...

  • Share this:
टिहरी. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) संक्रमण से बचाव के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) है. ऐसे में जहां लोग घरों में कैद है वहीं जंगली जानवर रिहायशी इलाकों और सड़कों पर घूमते नजर आ जा रहे हैं. टिहरी के रिहायशी इलाकों में तो इन दिनों कई जगहों पर लेपर्ड (Leopard) देखे जाने से लोगों में दहशत का माहौल है हालांकि वन विभाग (Forest Department) की टीम द्वारा अलग-अलग टीमें बनाकर गश्त की जा रही है और लोगों को भी इसके लिए अवेयर किया जा रहा है.

कई इलाकों में सैर कर रहे हैं Leopard
नई टिहरी शहर के केमसारी टिनशेड कालोनी, नई टिहरी कोटी-मोटर मार्ग और जिला अस्पताल बौराड़ी के आस-पास लेपर्ड देखे जाने से लोगों में दहशत बनी हुई है. जिला अस्पताल बौराड़ी के पास पिछले एक सप्ताह में दो बार लेपर्ड आवारा कुत्तों को उठा कर ले गया जिसका एक वीडियो भी वायरल हुआ. वहीं केमसारी टीनशेड कालोनी में एक फीमेल लेपर्ड अपने तीन बच्चों के साथ शाम को खेतों के आस-पास देखी जा रही है जिससे लोगों में खासी दहशत बनी हुई है. वहीं वन-विभाग की टीम द्वारा भी अब अलग-अलग जगहों पर गश्त की जा रही है.

इस मामले में टिहरी वन रेंज के अधिकारी आशीष डिमरी का कहना है कि लॉकडाउन के चलते सड़कें सुनसान होने से इन दिनों जंगली जानवर शहरों की तरफ आ रहा हैं. स्ट्रे एनिमल गाय, कुत्ते और सुअर लेपर्ड का आसान शिकार हैं उसके लिए भी कई बार वो जंगल से शहरों की तरफ आते हैं. लॉकडाउन के बावजूद भी कुछ लोग शाम के समय सुनसान सड़कों पर सैर के लिए निकल रहे हैं जो लॉकडाउन का उल्लंघन तो है ही. साथ ही अपनी जान जोखिम में डालने के बराबर भी है. हालांकि फ़ॉरेस्ट टीम गश्त कर रही है और लोगों से भी अपील कर रही है कि वो घरों में ही रहें और सुरक्षित रहें. उनका कहना है कि हालांकि अभी तक लेपर्ड के लोगों पर हमले की कहीं से कोई सूचना नहीं है. लेकिन उसे अपने और अपने बच्चों को खतरा महसूस होने पर लोगों पर भी अटैक कर सकता है इसीलिए फ़ॉरेस्ट विभाग की तरफ से लोगों से अपील की गई है कि सुनसान रास्तों और जगंल की तरफ न जाएं.
ये भी पढ़ें- COVID-19: इंतजार भरे उन 36 घंटों की तकलीफ बीमारी से भी ज्यादा खौफनाक....



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज