Lockdown 3.0: दूसरे राज्यों से उत्तराखंड वापस आए लोग, कहा-थैंक्यू यू सीएम साहब
Tehri-Garhwal News in Hindi

Lockdown 3.0: दूसरे राज्यों से उत्तराखंड वापस आए लोग, कहा-थैंक्यू यू सीएम साहब
दूसरे राज्यों से उत्तराखंड के लोगों को वापस लाया गया

टिहरी में पिछले एक सप्ताह में करीब ढाई हजार लोगों को हरियाणा, दिल्ली, पंजाब सहित अन्य राज्यों से घर पहुंचाया गया जिससे इन लोगों को राहत मिली और खुशी से उनके आंसू निकल गए. इन्होंने प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) का आभार जताया.

  • Share this:
टिहरी गढ़वाल. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से जारी लॉक डाउन (Lockdown) के चलते उत्तराखंड के बहुत से लोग दूसरे राज्यों में फंस गए थे. वे अपने-अपने घरों में वापस आने के लिए परेशान थे. इसके बाद सरकार द्वारा दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को घर वापस लाने की पहल की गई. टिहरी में पिछले एक सप्ताह में करीब ढाई हजार लोगों को हरियाणा, दिल्ली, पंजाब सहित अन्य राज्यों से घर पहुंचाया गया जिससे इन लोगों को राहत मिली और खुशी से उनके आंसू निकल गए. इन्होंने प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत  (CM Trivendra Singh Rawat)का आभार जताया.

14 दिनों के लिए किया जा रहा है क्वारंटाइन

दूसरे राज्यों में फंसे टिहरी के लोगों को हेल्थ चैकअप के बाद उन्हें घर पहुंचाया जा रहा है और 14 दिन के लिए क्वारंटाइन किया जा रहा है. टिहरी के प्रतापनगर, घनसाली और जाखणीधार के अधिकतर लोग रोजगार की तलाश में दूसरे राज्यों और विदेशों में हैं. इन लोगों में से सबसे अधिक घनसाली के लोग हैं. घनसाली के अधिकतर लोग तो विदेशों में है और वे होटल लाइन में काम करते हैं.



पंजाब, हरियाणा और दिल्ली से लाए गए लोग
टिहरी के प्रतापनगर और जाखणीधार के भी कुछ लोग विदेश और पंजाब दिल्ली हरियाणा में होटल लाइन या अन्य जगहों पर काम करते हैं. ये सभी लोग लॉकडाउन के चलते खासे परेशान हो गए. होटल और फैक्ट्रियां बंद होने के बाद से ये लोग एक ओर जहां बेरोजगार हो गए, वहीं दूसरी ओर घर से दूर होने के चलते घर वालों की भी इनकी चिंता सताने लगी थी.

'लॉकडाउन शुरू होते ही तीन साथियों के कमरे में कैद हो गया था'

सरकार ने दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को निकालने के लिए मुहिम शुरू की और ऑनलाइन आवेदन के जरिए लोगों की सूची तैयार की. इसके बाद से दूसरों राज्यों में फंसे लोगों को लगातार उत्तराखंड लाया जा रहा है और उन्हें उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है. हरियाणा में होटल लाइन में काम करने वाले विनीत का कहना है कि है लॉक डाउन शुरू होते ही होटल बंद कर दिए गए. वे अपने तीन अन्य साथियों के साथ कमरों में कैद हो गए थे. होटल मालिक द्वारा उन्हें कुछ दिन का राशन दिया गया लेकिन कुछ दिन बाद वह भी खत्म हो गया तो सामाजिक संगठनों द्वारा उन्हें राशन दिया गया लेकिन घर घर की चिंता उन्हें लगातार सताती थी. इसके बाद उन्होंने ऑनलाइन अप्लाई किया और फिर उन्हें कॉल आया और उन्हें और उनके साथियों को प्रतापनगर उनके घर तक पहुंचाया जा रहा है.

28 बसों से टिहरी लाए गए लोग

टिहरी एसडीएम का कहना है कि अभी तक 28 बसें टिहरी पहुंच चुकी है जिसमें प्रतापनगर और घनसाली के अधिकतर लोग हैं, जिन्हें हेल्थ चेकअप के बाद उनके घर तक पहुंचाया जा रहा है और वहां प्रधान की मदद से इन्हें पंचायत भवन या स्कूलों में इनको 14 दिन के लिए क्वारंटाइन कर दिया जाएगा और लगातार हंल्थ चैकअप भी किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: CM के आदेश के बाद भी कोसी इंटेकवेल की जांच नहीं हुई पूरी, पेयजल संकट बरकरार

रुड़की में ARMY और ग्रामीणों के बीच संघर्ष, पत्थरबाजी में दो महिलाएं हुईं घायल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading