लाइव टीवी

राज्य की पहली महिला सांसद को लेकर क्या कहती हैं उनके क्षेत्र की महिलाएं

Saurabh Singh | News18 Uttarakhand
Updated: March 13, 2019, 6:10 PM IST
राज्य की पहली महिला सांसद को लेकर क्या कहती हैं उनके क्षेत्र की महिलाएं
टिहरी सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह के उत्तराखंड की पहली महिला लोकसभा सासंद हैं.

स्थानीय महिलाएं कहती हैं कि माला राज्य लक्ष्मी शाह तो राजपरिवार से आईं और सांसद बन गईं. उन्हें स्थानीय महिलाओं की तकलीफ़ों, ज़रूरतों का क्या पता.

  • Share this:
टिहरी सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह के उत्तराखंड की पहली महिला लोकसभा सासंद हैं. ऐसे में महिलाओं की उनसे काफ़ी अपेक्षाएं थीं. अब जब उनका कार्यकाल लगभग समाप्त हो गया है तब उनके क्षेत्र की महिलाओं को लगता है कि राजपरिवार की बहू ने कभी ज़मीनी हकीकत नहीं जानी. बतौर सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह ने पहाड़ की महिलाओं की परेशानियों को दूर करने की कोशिश नहीं की, अपने क्षेत्र के विकास की आवाज दिल्ली में नहीं उठाई.

पौड़ी से टिकट तय करने में खंडूड़ी की बात मानेगी बीजेपी

वर्ष 2012 के उपचुनाव में तत्कालीन कांग्रेसी मुख्यमंत्री साकेत बहुगुणा को हराकर राजपरिवार की बहू को टिहरी लोकसभा के लोगों ने संसद भेजा था. साल 2014 में भी साकेत बहुगुणा को 1,92,503 वोटों से हराकर राजपरिवार की बहू माला राज्य लक्ष्मी शाह को फिर टिहरी के लोगों ने टिहरी का ताज पहनाया. माला राज्यलक्ष्मी शाह उत्तराखंड की पहली महिला लोकसभा सांसद हैं और उनसे महिलाओं को काफी अपेक्षाएं थी लेकिन अब लगता है कि ये पूरी नहीं हुईं.

पौड़ी से रियर एडमिरल (रिटायर्ड) ओमप्रकाश राणा को मिलेगा बीजेपी का टिकट!

दर्शनी रावत कहती हैं कि राज्य की पहली महिला सांसद होने के नाते उन्हें माला राज्य लक्ष्मी शाह पर गर्व होता है लेकिन बतौर सांसद वह सफल नहीं रहीं. अपने क्षेत्र में उन्होंने कोई काम नहीं किया. न तो वह संसद में महिलाओं को 33 फ़ीसदी आरक्षण की बात उठा पाईं और न ही वह कभी महिलाओं के बीच दिखीं.

सतपाल महाराज बोले, नहीं छोड़ रहा बीजेपी, राहुल गांधी की रैली के लिए फैलाई गई अफवाह

प्रताप नगर की रहने वाली विजय लक्ष्मी थलवाल तो माला राज्य लक्ष्मी शाह के महिला सांसद होने की बात पर ही सवाल उठाती हैं. वह कहती हैं कि वह तो राजपरिवार से आईं और सांसद बन गईं. उन्हें स्थानीय महिलाओं की तकलीफ़ों, ज़रूरतों का क्या पता. स्थानीय महिलाओं को तो मौका ही नहीं मिल रहा है.
Loading...

16 मार्च को देहरादून आ रहे राहुल गांधी, घोषित होंगे कांग्रेस उम्मीदवारों के नाम

ऐसे में जबकि बीजेपी सांसदों के नाम पर विचार कर रही है और दिल्ली से आ रही ख़बरों के अनुसार पार्टी 25 फ़ीसदी सांसदों के टिकट काट सकती है. स्थानीय लोगों की नाराज़गी उत्तराखंड के सांसदों पर भी भारी पड़ सकती है.

टिहरी सीट पर प्रदेश कांग्रेस के पूर्व व वर्तमान अध्यक्षों की दावेदारी, अंतिम फैसला हाईकमान पर

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने बीजेपी को बताया मौकापरस्त, कही ये बातें

उत्तराखंड में शामिल नहीं किया इसलिए मतदान का बहिष्कार करेंगे यूपी के 123 गांव

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टिहरी गढ़वाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 13, 2019, 6:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...