साल भर से पेंशन, जीपीएफ़ का पैसा रोके थे अधिकारी, CM App से तुरंत मिली राहत

उन्होंने कई बार बीईओ प्रतापनगर और डीईओ टिहरी को मौखिक रूप से शिकायत भी दर्ज की लेकिन एक साल बीत जाने के बाद भी उनकी पेंशन शुरू नहीं हो पाई थी.

News18 Uttarakhand
Updated: April 16, 2018, 4:09 PM IST
साल भर से पेंशन, जीपीएफ़ का पैसा रोके थे अधिकारी, CM App से तुरंत मिली राहत
टिहरी के एक सेवानिवृत्त शिक्षक की पेंशन और जीपीएफ़ का पैसा सीएम मोबाइल ऐप पर शिकायत दर्ज करने के बाद मिल गया.
News18 Uttarakhand
Updated: April 16, 2018, 4:09 PM IST
सीएम मोबाइल ऐप से एक और उत्तराखंड वासी को राहत मिली है. टिहरी के एक सेवानिवृत्त शिक्षक की पेंशन और जीपीएफ़ का पैसा सीएम मोबाइल ऐप पर शिकायत दर्ज करने के बाद मिल गया.

टिहरी जिले के सौड भदूरा निवासी भगवती प्रसाद उनियाल मार्च, 2017 में राजकीय जूनियर हाई स्कूल सेमधार कोटाल गांव प्रतापनगर, टिहरी गढ़वाल से सेवानिवृत्त हो गए थे. लेकिन अभी तक न तो उनकी पेंशन शुरू हो पाई थी और न ही जीपीएफ का पूरा पैसा मिला था. इस सम्बन्ध में उन्होंने कई बार बीईओ प्रतापनगर और डीईओ टिहरी को मौखिक रूप से शिकायत भी दर्ज की लेकिन एक साल बीत जाने के बाद भी उनकी पेंशन शुरू नहीं हो पाई थी.

इस समस्या के समाधान के लिए भगवती प्रसाद उनियाल के बेटे ने मुख्यमंत्री के मोबाइल एप पर शिकायत दर्ज कराई. शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने जिलाधिकारी टिहरी को उक्त शिकायत का समाधान करने के निर्देश दिए. जिलाधिकारी टिहरी ने निर्देशों के अनुपालन में प्राप्त शिकायत का निराकरण कराया.

भगवती प्रसाद उनियाल को उनके जीपीएफ के रुके हुए लगभग 13 लाख रुपये और पिछले एक साल की पेंशन की धनराशि तो मिली ही अप्रैल महीने से उन्हें नियमित पेंशन मिलनी भी शुरू हो गई.

सेवानिवृत्त शिक्षक भगवती प्रसाद उनियाल ने उनकी इस समस्या के त्वरित समाधान के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और जिलाधिकारी टिहरी का आभार व्यक्त किया.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर